Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, नवम्बर 21, 2018 | समय 08:19 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

कांग्रेस के आगे झुका टीडीपी का ''स्वाभिमान''!

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 2 2018 5:43PM
कांग्रेस के आगे झुका टीडीपी का 'स्वाभिमान'!

अमोद

हैदराबाद। तेलगूदेशम पार्टी (टीडीपी) के 'स्वाभिमान' और कांग्रेस के बीच टक्कर होती रही है। कांग्रेस को हर बार झुकना भी पड़ा है, लेकिन अब परिस्थियां बदली हैं। राजीव गांधी की एक गलती की वजह से जगा 'स्वाभिमान' अब तकरीबन तीन दशकों बाद झुक गया है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने तेलुगूदेशम पार्टी के इस कदम को तेलुगू स्वाभिमान के खिलाफ बताया है। हैदराबाद के नाचाराम क्षेत्र निवासी तिरुमल का कहना है कि हमने बुजुर्गों से सुना है कि वर्ष 1980-82 के बीच शुरू हुई कांग्रेस और तेलुगू स्वाभिमान के लड़ाई की शुरुआत हुई थी।

हैदराबाद आए राजीव गांधी से तत्कालीन मुख्यमंत्री तन्गुतुरी अंजैया ने मुलाकात करने का समय मांगा। यहां तक कि मिलने के लिए एयरपोर्ट तक पहुंच गए। बावजूद इसके बाद राजीव उनसे नहीं मिले। इसके बाद फिल्मों में काम कर रहे एनटी रामाराव ने इस घटना को गंभीरता से लिया। राजीव के इस रवैया को 'तेलुगू स्वाभिमान' का अपमान बताया। फिर पार्टी का गठन किया। कांग्रेस के सफाए की कसम खाई, लेकिन अब इस स्वाभिमान की लड़ाई में टीडीपी हार गई है। हमेशा झुकने वाली कांग्रेस ने टीडीपी को अपनी शर्तों पर हाथ मिलाने को मजबूर कर दिया है।

बोली भाजपा

चंद्रबाबू नायडू टीडीपी के सिद्धांतों से भटक गए हैं। टीडीपी का स्थापना कांग्रेस की तानाशाही के खिलाफ हुआ था। अब इस लड़ाई को टीडीपी हार गई है। कुर्सी बचने को अब चंद्रबाबू नायडू खेल खेल रहे हैं। पार्टी के संस्थापक एनटी रामाराव को भी अगर याद करते तो ऐसा निर्णय नहीं ले पाते।

टीआरएस बोली

तेलंगाना राष्ट्र समिति के सांसद बी. विनोद ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि चंद्रबाबू केवल नौ सीटों के लिए दिल्ली गए। छोटी-छोटी बातों पर एनडीए से संबंध तोड़ने पर आश्चर्य व्यक्त किया। कहा संबंध बहुत प्रयास से बनते हैं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस तेलंगाना को धोखा दे रही है और टीडीपी राजनीतिक लाभ के लिए परेशान है।

image