Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 08:13 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

99 प्रतिशत मुस्लिम मतदाता टीडीपी के साथ: सत्यनारायणा

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 5 2018 9:11PM
99 प्रतिशत मुस्लिम मतदाता टीडीपी के साथ: सत्यनारायणा
-आमोद कान्त मिश्र पेद्दापल्ली, 05 नवम्बर (हि.स.)। रामगुंडम विधानसभा से निवर्तमान विधायक और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के उम्मीदवार सोमारपु सत्यनारायणा की दिनचर्या जानने के लिए सोमवार को हिन्दुस्थान समाचार ने उनके आवास पर एक घंटे बिताया। सुबह तकरीबन 08 बजे हिन्दुस्थान की टीम उनके आवास पर पहुंची तो वहां समर्थकों और फरियादियों की भारी भीड़ लगी थी। सोमारपु सत्यनारायणा अपने आवास के भीतर थे। टीम को देखते ही कुछ लोग पास पहुंचे और पूछताछ करने लगे। हिन्दुस्थान समाचार के बारे में प्रारम्भिक जानकारी लेने के बाद आश्वस्त होकर सत्यनारायणा के पर्सनल असिस्टेंट से मिलवाया गया। यहां सवालों की लड़ी लग गई। यह सब अभी चल ही रहा था कि नेताजी बाहर निकले और सीधे कार्यकर्ताओं और फरियादियों की भीड़ के पास पहुंच गए। कार्यकर्ताओं को किनारे किया और फरियादियों की बातों को गौर से सुनने लगे। एक बूढ़े व्यक्ति को काफी देर तक समझाया। भाषा की दिक्कत होने की वजह से उसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिल सकी, लेकिन उसके चेहरे भाव से ऐसा लगा कि शायद उसका काम बन गया है। इधर, कार्यकर्ताओं में उनके पैर छूने की होड़ सी लगी थी। वे हर मिनट उनके नजदीक पहुंच जा रहे थे। काम में खलल पड़ने पर सत्यनारायणा उन्हें डांटकर दूर रहने की नसीहत दे रहे थे। इस दौरान उड़ीसा के एक परिवार की आई बेटी ने भी अपनी समस्या सुनाई और सत्यनारायणा ने उसे गले लगाया, फिर पूछा कि कुछ खाया? हाँ में सिर हिलाने के बाद उससे बातें की और हाथ से कागज लेकर उस पर कुछ लिख दिया। लड़की के परिजनों ने उसे तत्काल गाड़ी में बिठाया और चलते बने। लड़की और परिजनों के चेहरे पर खुशी का भाव था। आसपास खड़े लोगों ने बताया कि लड़की को उच्च शिक्षा के लिए बजट की जरूरत थी। यहां से तकरीबन 45 मिनट बाद खाली हुए सत्यनारायणा ने हिन्दुस्थान समाचार की टीम को अंदर कमरे में बुलाया और खुलकर बातें की। रेबल (बागी) जैसी कोई समस्या न होना बताया। विधानसभा के 99 प्रतिशत मुस्लिम वोटर्स को अपने साथ बताया। मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएमआईएम) से कोई खतरा के सवाल पर गोलमोल जवाब देकर निकल गए। सिर्फ इतना कहा कि मजलिस का अपना सिर्फ कुछ निर्धारित एरिया है। वह उसी में सिमटा है। यहां नीयत से काम करने की जरूरत है। समाज में हर वर्ग की भागीदारी जरूरी है। एमआईएमआईएम के विधायकों का चुनकर आना भी जरूरी है। हिन्दुस्थान समाचार/
image