Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 09:17 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

वेट एंड वाच की स्थिति में हैं महबूबनगर के मतदाता

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 3 2018 8:27PM
वेट एंड वाच की स्थिति में हैं महबूबनगर के मतदाता
आलोक नंदन शर्मा, महबूबनगर, 03 नवंबर (हि.स.) । दबी जुबान में महबूबनगर के मतदाता इस बात को स्वीकार तो कर रहे हैं कि अपने वादे के मुताबिक तेलंगाना राष्ट्र समिति ( टीआएस) ने महबूबनगर का विकास नहीं किया है, लेकिन दूसरी पार्टियों द्वारा अभी तक अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा न करने की वजह से वह भी वेट एंड वाच की स्थिति में हैं। महबूबनगर अस्पताल के सामने एक छोटी दुकान लगाने वाले शख्स का कहना है कि सभी उम्मीदवारों के नामों की घोषणा होना बाकी है। अभी से कुछ नहीं कहा जा सकता है। अस्पताल के अहाते में बिंदास अंदाज में विचरण कर रहे सुअरों की तरफ इशारा करते हुये वह सवालिया अंदाज में कहते हैं क्या यही विकास है। लोग यहां इलाज कराने आते हैं और ये सुअर पूरे अस्पताल में बीमारी फैला रहे हैं। वह आगे कहते हैं कि महबूबनगर को एक साफ सुथरा शहर बनाने के लिए तमाम पार्टी के नेता अंडर ग्राउंड ड्रैनेज सिस्टम देने की बात करते हैं, जबकि यहां के सबसे बड़े अस्पाल में ही बीमारियां पल रही हैं और कोई देखने वाला नहीं है। अंडर ग्राऊंड सिस्टम क्या खाक देंगे? दवा कारोबार से जुड़े चंद्रशेखर कहते हैं, यह सच है कि लोग टीआरएस से नाराज हैं। इसकी कई वजहें हैं। यहां के सारे बड़े ठेके आंध्र प्रदेश के कारोबारियों के हाथों में चले गए हैं, जो टीआरएस के नेताओं को मोटी कमीशन दे रहे हैं। इसके अलावा यहां पर न तो नई फैक्ट्रियां खोली गई हैं न ही शिक्षा पर ध्यान दिया जा रहा है। कॉलेजों में न तो शिक्षक हैं और न ही स्टाफ है। इसी तरह जे राम रेड्डी कहते हैं, यदि इस बार लोग तेलंगाना में टीआरएस को नकार दें तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिए। कांग्रेस और तेलगू देशम पार्टी (टीडीपी) के लोग अपनी परंपरागत राजनीतिक दुश्मनी के बावजूद सिर्फ टीआरसी को सत्ता से बाहर करने के लिए एक प्लेटफार्म पर आ रहे हैं। इस बार दोनों का वोट एक दूसरे में बड़ी संख्या में ट्रांसफर होने वाला है। महबूबनगर में मुसलमानों की आबादी तकरीबन 28 प्रतिशत है। ये लोग पंपरागत तौर पर कांग्रेस के वोटर हैं। कांग्रेस और टीडीपी के गठबंधन की वजह से मुदिराज और मुनारकामू समुदाय का वोट भी इनकी ओर ट्रांसफर हो सकता है जो तकरीबन कुल वोट के 38 और 15 प्रतिशत है। महबूरनगर से टिकट की दौड़ में शामिल बीजेपी राज्य कार्यकारिणी के सदस्य पडाकल्लू बालराज कहते हैं कि चंद्रबाबू नायडू के समय महबूबनगर सीट बीजेपी की हुआ करती थी। जो हालात यहां बन रहे हैं फिर से इस सीट पर कब्जा करना मुमकिन है। बहुत कुछ कांग्रेस के उम्मीदवार पर निर्भर करेगा। यहां के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। शहर में रहने वाले लोगों के लिए ठीक न तो पीने का पानी मुहैया रहो रहा है और न ही किसानों को खेतों के लिए। हिन्दुस्थान समाचार/आलोक/पी.के.
image