Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 08:06 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

टीआरएस के खिलाफ महागठबंधन में जुटे कांग्रेस-वामपंथी, राजनैतिक पैंतरेबाजी शुरू

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 1 2018 7:50PM
टीआरएस के खिलाफ महागठबंधन में जुटे कांग्रेस-वामपंथी, राजनैतिक पैंतरेबाजी शुरू
हैदराबाद, 01 नवम्बर (हि.स.)। तेलंगाना चुनाव में अब नया मोड़ आ गया है। सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को सत्ता से हटाने के लिए कांग्रेस और वामपंथियों ने हाथ मिला लिया है। टीआरएस के खिलाफ महागठबंधन को धरातल पर उतारने की कोशिशें तेज कर दी हैं। तकरीबन आधा दर्जन पार्टियों के बीच टीआरएस के खिलाफ सुगबुगाहट देखी जा रही है। तेलंगाना राज्य निर्माण के बाद पूर्ण बहुमत में आई टीआरएस के सामने अब सत्ता में पुनः वापस आने की चुनौती है। वजह, कांग्रेस और वामपंथियों ने हाथ मिलाने के बाद महागठबंधन की कवायद तेज कर दी है। इतना ही नहीं, आरोप-प्रत्यारोप कर राजनैतिक रोटियां सेंकने का कार्य भी शुरू है। कांग्रेस द्वारा टीआरएस प्रमुख के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच मुलाकात होने का आरोप लगाए जाने के बाद केसीआर मुखरित है। वह कांग्रेस के इस बयान को न सिर्फ राजनैतिक लाभ लेने का हथकंडा बता रही है, बल्कि कांग्रेस द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बताए जा रहे समय में प्रधानमंत्री के जापान दौरे पर होना प्रमाणित करने में जुटी है। पार्टी के लगभग सभी नेता अपने भाषणों में यह सफाई दे रहे हैं। इससे टीआरएस की परेशानी का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। इधर, महागठबंधन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले प्रो. कोदंडराम ने टीआरएस के शासनकाल को तानाशाही प्रवृत्ति का बताते हुए इसे बेदखल करने का बिगुल फूंक दिया है। महागठबंधन में तेलगूदेशम पार्टी, कांग्रेस, वामपंथी दलों और तेलंगाना जनसेना के शामिल होने का दावा करते हुए संभावित घटक दलों की प्रशंसा की है। इनके द्वारा कोई शर्त न रखने की बात कहते हुए तेलंगाना को बचाने में इनकी भूमिका को सराहनीय बताया है। इतना ही नहीं, उन्होंने कांग्रेस को महागठबंधन में बड़ा भाई की भूमिका में रूप में स्वीकारोक्ति भी दे दी है। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई) नेता वेंकटेश रेड्डी ने घटक दलों से महागठबंधन को मजबूत करने की अपील की है। तेलगुदेशम पार्टी (टीडीपी) अध्यक्ष एन. रमणा ने टीआरएस के शासनकाल को जनविरोधी करार देते हुए महागठबंधन को अच्छा विकल्प बताया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/आमोद/सुनीत
image