Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, अप्रैल 26, 2019 | समय 21:42 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

बंगाल के मंदिरों में लगा भक्तों का तांता, पीएम एवं सीएम ने दी शुभकामनाएं

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 15 2019 12:36PM
बंगाल के मंदिरों में लगा भक्तों का तांता, पीएम एवं सीएम ने दी शुभकामनाएं

ओम प्रकाश

कोलकाता, 15 अप्रैल (हि.स.)। मां काली की भूमि पश्चिम बंगाल में बांग्ला नववर्ष 1426 की शुरुआत के मौके पर सोमवार को कोलकाता समेत राज्य के अन्य हिस्सों में मौजूद मां काली के शक्तिपीठों में पूजा करने के लिए भक्तों की भारी भीड़ उमड़ी है। कोलकाता के कालीघाट, दक्षिणेश्वर के विख्यात काली मंदिर, बीरभूम के तारापीठ और अन्य मंदिरों में सुबह 5:00 बजे से ही भक्तों का तांता लग गया था। दक्षिणेश्वर मंदिर का कपाट सुबह 5:30 बजे खोला गया जिसके बाद सुबह 10:00 बजे तक मां काली की पूजा के लिए लोगों की लंबी लाइन लगी रही। इसमें बड़ी संख्या में महिला, पुरुष, युवा, बुजुर्ग हर आयु वर्ग के लोग शामिल थे। इसी तरह से कोलकाता के कालीघाट में भी पूजा करने वालों की भारी भीड़ थी। पुरुष धोती कुर्ता और महिलाएं लाल धारी वाली चमकती सफेद साड़ी जैसी पारंपरिक बंगाली परिधान पहनकर मंदिरों में पूजा-अर्चना करने के लिए पहुंची थीं। बड़ी संख्या में बच्चे नए -नए कपड़े पहनकर घर वालों के साथ मां काली के दर पर चहक रहे थे। वैशाख महीने की शुरुआत के साथ ही बांग्ला भाषी लोगों के नए साल की शुरुआत भी होती है। इस दिन प्रत्येक बांग्ला भाषी के घर में मीठे पकवान बनाए जाते हैं और आस पड़ोस के लोगों को भी खिलाया जाता है। कारोबारी अपने पुराने बही खाते पूरा कर नए बही खाते की शुरुआत पूजा पाठ के बाद करते हैं। इसलिए सुबह से ही पुरोहित भी प्रत्येक क्षेत्र में शंख और घंटी लेकर पूजा कराते हुए नजर आए हैं। इस मौके पर लोग अपने-अपने रिश्तेदारों के घर भी शुभकामनाओं का आदान-प्रदान करने के लिए पहुंचे हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस मौके पर शुभकामनाएं प्रेषित की हैं। पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के अलावा भारत और दुनिया भर में बसे बंगाली समुदाय के लोग इस दिन नए साल का त्यौहार धूमधाम से मना रहे हैं।

मुगल शासन से भी है संबंध

इस दिन का मुगल शासन ने भी संबंध है। इतिहास में कहा गया है कि पोइला बोइसाख का अवसर और इससे जुड़े समारोह मुग़ल बादशाह अकबर के शासनकाल से शुरू हुए थे। कहा जाता है कि मुगल सम्राटों के शासनकाल के दौरान, हिजरी कैलेंडर का पालन करके किसानों से कृषि कर एकत्र किए गए थे। हालांकि, यह हिजरी कैलेंडर एक विशुद्ध रूप से चंद्र कैलेंडर है और यह फसल के साथ मेल नहीं खाता है। इससे किसानों के लिए मुश्किल हो गई क्योंकि उन्हें सीजन से बाहर कर देने के लिए मजबूर होना पड़ा। इस कठिनाई को हल करने के लिए, मुगल सम्राट अकबर ने कैलेंडर में सुधार का आदेश दिया। नया कृषि वर्ष 1584 में पेश किया गया था और इसे बंगाली वर्ष के रूप में जाना जाने लगा।

परंपरा के अनुसार चैत्र के अंतिम दिन सभी बकाया को पूरा करना अनिवार्य हो गया। अगले दिन, या नए साल के पहले दिन, मकान मालिक अपने किरायेदारों को मिठाई के साथ मुंहा मीठा करते थे।

पीएम नरेंद्र मोदी ने बंगाली समुदाय को शुभकामनाएं दीं और ट्वीट किया कि शुभ नबो बर्षो! मैं प्रार्थना करता हूं कि आने वाला वर्ष आनंद से भरा हो। सभी को अच्छे स्वास्थ्य का आशीर्वाद मिले।

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी सोशल मीडिया पर लोगों का अभिवादन किया।

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कामना करते हुए कहा कि आप सभी को बंगाली नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं। नया साल लोगों के लिए सुरक्षा, स्वास्थ्य और खुशियां लेकर आए।

हिन्दुस्थान समाचार

लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image