Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, दिसम्बर 13, 2018 | समय 02:10 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

प्रशासन ने आठ दिसम्बर तक बढ़ाई सबरीमला में निषेधाज्ञा

By HindusthanSamachar | Publish Date: Dec 5 2018 1:58PM
प्रशासन ने आठ दिसम्बर तक बढ़ाई सबरीमला में निषेधाज्ञा

गोविन्द

नई दिल्ली/ पत्तनमत्तिट्टा। उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद केरल के सबरीमला स्थित भगवान अयप्पा के मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ श्रद्धालुओं के प्रदर्शनों को देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने पंबा, इलावुंकल, निलाक्कल और सान्निदानम में निषेधाज्ञा को आठ दिसम्बर तक के लिए बढ़ा दिया है। पत्तनमत्तिट्टा के जिलाधिकारी पी. बी. नूह ने मंगलवार देर शाम जानकारी दी कि जिला पुलिस निरीक्षक और कार्यकारी मजिस्ट्रेट की रिपोर्ट मिलने के बाद निषेधाज्ञा को बढ़ाने का आदेश जारी किया गया है।

जिलाधिकारी ने कहा कि आठ दिसम्बर तक लगायी गयी निषेधाज्ञा में भजन-कीर्तन के दौरान भगवान अयप्पा के दर्शन करने के लिए समूह में आये श्रद्धालुओं पर लागू नहीं होगी। केरल के राज्यपाल न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) पी. सदाशिवम ने हालांकि दो दिसम्बर को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक प्रतिनिधिमंडल को सबरीमला और इसके आसपास के क्षेत्रों में निषेधाज्ञा के मुद्दे पर मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन से चर्चा करने का आश्वासन दिया था। भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से आग्रह किया था कि सबरीमला में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाना उचित नहीं है क्योंकि यहां तीर्थयात्री आमतौर पर समूहों में आते हैं।

मालूम हो कि सबरीमला केरल के पेरियार टाइगर अभयारण्य में स्थित एक प्रसिद्ध हिन्दू मन्दिर है। यहां विश्व का सबसे बड़ा वार्षिक तीर्थयात्रा होती है जिसमें प्रति वर्ष लगभग दो करोड़ श्रद्धालु सम्मिलित होते हैं। केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से 175 किलोमीटर की दूरी पर पंपा है और वहां से चार-पांच किमी की दूरी पर पश्चिम घाट से सह्यपर्वत शृंखलाओं के घने वनों के बीच, समुद्रतल से लगभग 1000 मीटर की ऊंचाई पर सबरीमला मंदिर स्थित है। सबरीमला शैव और वैष्णवों के बीच की अद्भुत कड़ी है। मलयालम में 'सबरीमला' का अर्थ होता है, पर्वत। वास्तव में यह स्थान सह्याद्रि पर्वतमाला से घिरे हुए पथनाथिटा जिले में स्थित है। पंपा से सबरीमला तक पैदल यात्रा करनी पड़ती है। यह रास्ता पांच किलोमीटर लम्बा है।

image