Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, नवम्बर 21, 2018 | समय 06:55 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

संघ प्रमुख मोहन भागवत प्रचारकों को ''मंत्र'' देने 11 को पहुंचेंगे वाराणसी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 8 2018 2:40PM
संघ प्रमुख मोहन भागवत प्रचारकों को 'मंत्र' देने 11 को पहुंचेंगे वाराणसी
बृजनन्दन
लखनऊ। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक डा. मोहन राव भागवत छह दिवसीय प्रवास पर 11 नवम्बर को वाराणसी पहुंचेंगे। वे छह दिवसीय 'कार्य विभाग प्रचारक वर्ग' में हिस्सा लेंगे। इस वर्ग में पूर्वोत्तर भारत से लेकर जम्मू-कश्मीर तक के कार्य विभाग में काम कर रहे वरिष्ठ प्रचारक हिस्सा लेंगे।
 
संघ की यह बैठक हरहुआ के राजपुर में एक निजी महाविद्यालय में होगा। इसमें सरसंघचालक पूरे समय रहेंगे। शहर से बाहर संघ के कार्यक्रम में सभी छह सह सरकार्यवाह समेत दस अखिल भारतीय पदाधिकारी भी रहेंगे। पूर्वोत्तर राज्यों, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश आदि राज्यों से करीब 250 प्रचारक इस वर्ग में प्रशिक्षण लेंगे। इसमें छह क्षेत्रों के क्षेत्र प्रचारकों को भी बुलाया गया है। इस वर्ग में पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के वरिष्ठ प्रचारकों को भी बुलाया गया है। संघ सूत्रों की मानें तो इस बैठक में प्रान्त प्रचारक शामिल नहीं होंगे।
संघ के एक सर्वोच्च पदाधिकारी ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि आरएसएस में ऐसी बैठक चार साल में एक बार होती है। इसमें अखिल भारतीय तथा क्षेत्रीय स्तर के प्रचारकों को शारीरिक, बौद्धिक, व्यवस्था, सेवा, सम्पर्क तथा प्रचार की बारीकियों को बताया जाता है। इन कार्य विभागों की वर्तमान क्या स्थिति है और क्या सुधार करने की जरुरत है, इस पर गहन मंत्रणा के साथ महत्वपूर्ण निर्णय लिया जाता है।
आरएसएस अपने कार्य की दृष्टि से पूरे देश को 11 क्षेत्रों में विभाजित किया है, उसमें से छह क्षेत्रों की बैठक वाराणसी में बुलाई गई है। जिसमें पश्चिम बंगाल, आसाम, नागालैण्ड, मिजोरम, त्रिपुरा, मणिपुर, उड़िया, बिहार, झारखण्ड, उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, मध्यप्रदेश, छतीसगढ़ समेत अन्य राज्य शामिल हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश के क्षेत्र प्रचारक अनिल बैठक की तैयारियों को अंतिम रूप देने काशी पहुंच चुके हैं।
वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भी 12 नवम्बर को वाराणसी दौरा तय है। फिलहाल संघ की इस बैठक में भाजपा के प्रतिनिधि हिस्सा नहीं लेंगे, फिर भी मोदी के संसदीय क्षेत्र होने के नाते इस बैठक को काफी अहम माना जा रहा है। आरएसएस समय-सयम पर प्रचारकों के गुणात्मक विकास के लिए प्रचारक वर्ग का आयोजन करता है जिसमें संघ की आगामी रणनीति, कार्ययोजना व विस्तार पर चर्चा व प्रशिक्षण होता है और कार्यक्रम तय किये जाते हैं।
ये प्रमुख पदाधिकारी होंगे शामिल
 
सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी, दत्तात्रेय होसबोले, डॉ. कृष्ण गोपाल,डॉ. मनमोहन वैद्य, वी. भग्गैया, अखिल भारतीय बौद्धिक प्रमुख स्वांत रंजन, सुनील मेहता, अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार, सह प्रचार प्रमुख नरेंद्र ठाकुर, सेवा प्रमुख सुहास हिरेमठ, शारीरिक प्रमुख सुनील कुलकर्णी, सह जगदीश प्रसाद, अ.भा. व्यवस्था प्रमुख मंगेश भिड़े व अनिल ओक, अखिल भारती सेवा प्रमुख पराग अभ्यंकर, राजकुमार मटाले, अखिल भारतीय सम्पर्क प्रमुख सुनील देशपांडे तथा रमेश पप्पा मौजूद रहेंगे।
 
ये हैं संघ के कार्यविभाग
 
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने कार्य विस्तार की दृष्टि से कार्यो का वर्ग विभाजन किया है। संघ के कार्य विभाग में शारीरिक, बौद्धिक, व्यवस्था, सेवा, सम्पर्क और प्रचार​ विभाग शामिल है। इन क्षेत्रों में कार्य रहे अखिल भारतीय तथा क्षेत्रीय स्तर के प्रचारक ही इस बैठक में शामिल होंगे।
image