Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, अक्तूबर 22, 2018 | समय 22:43 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

गुजरात मुख्यालय सहित लगभग पूरा राज्य तोगड़िया के साथ

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 16 2018 6:24PM
गुजरात मुख्यालय सहित लगभग पूरा राज्य तोगड़िया के साथ
नई दिल्ली, 16 अप्रैल(हि.स.)। विश्व हिन्दू परिषद के भूत हो गये प्रवीण तोगड़िया के साथ लगभग-लगभग पूरा गुजरात विहिप हो गया है| तीन दिनों में राज्य के 3000 से अधिक प्रखण्ड पदाधिकारी व कार्यकर्ता, विहिप से इस्तीफा देकर उनके साथ हो गये हैं। विहिप के महामंत्री रणछोर भाई ने इस बारे में इस संवाददाता से कहा, “जो-जो हिन्दुत्व के लिए काम करेंगे, उसको विहिप सपोर्ट करेगी”। सवाल - तोगड़िया अभी नहीं कर रहे हैं क्या? जवाब - अभी विहिप से वो मुक्त हो गये हैं। सवाल - वो हिन्दुत्व के लिए काम कर रहे हैं या नहीं कर रहे हैं? जवाब - कर रहे हैं न ,वो राममंदिर का मुद्दा हिन्दुत्व का है कि नहीं,गौ रक्षा हिन्दुत्व का है कि नहीं। सवाल - इस मुद्दे पर आप उनके साथ हैं? जवाब- इस मुद्दे पर हर हिन्दू साथ में है। गुजरात विहिप के कितने पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने तोगड़िया की तरफदारी में इस्तीफा दे दिया है, उनके साथ हो गये हैं? इस सवाल पर गुजरात विहिप अध्यक्ष कौशिक मेहता ने इस संवाददाता को बताया - “टोटल प्रखंड के आधार पर अहमदाबाद के लगभग सभी हैं। डिटेल तो रणछोर भाई के पास होगा, लेकिन जो अखबार में आंकड़े आये हैं वे 3000 से ज्यादा हैं”। अहमदाबाद में जो राज्य विहिप मुख्यालय या कार्यालय है क्या वहीं से तोगड़िया 17 अप्रैल वाले अपने आमरण अनशन की तैयारी कर रहे हैं? इस सवाल पर कौशिक भाई ने कहा , “राज्य विहिप का कार्यालय अहमदाबाद के जिस भवन में है वह वणिकर स्मारक ट्रस्ट का है। उसके ट्रस्टी प्रवीण भाई तोगड़िया हैं। यह है, अधो आश्रम है, ऐसे कई ट्रस्ट हैं जिसके ट्रस्टी प्रवीण भाई तोगड़िया हैं। गुजरात के कई जिलों में ऐसे हैं। ज्यादातर जगह पर ट्रस्ट के ही हैं। कहीं-कहीं पर विहिप का होगा| यह गुजरात की परम्परा है”। इस तरह गुजरात में लगभग पूरा विहिप तोगड़िया के पाले में चला गया है। सूत्रों के मुताबिक इसको लेकर केन्द्र व राज्य प्रशासन सतर्क है। खुफिया एजेंसियों की गतिविधियां तेज हो गई हैं। तोगड़िया व उनके विश्वासपात्रों की हर गतिविधियों पर हर तरह से कड़ी नजर रखी जा रही है। विहिप के एक नेता का कहना है कि देखिए 17 अप्रैल से तोगड़िया के आमरण अनशन में कितने लोग आते हैं, यह कितने दिन चलता है, उसको लेकर क्या प्रतिक्रिया होती है। हिन्दुस्थान समाचार/ कृष्णमोहन/राधा रमण
image