Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, अप्रैल 25, 2019 | समय 02:09 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

उच्च शिक्षा से समता मूलक समाज की स्थापना का मार्ग प्रशस्त होगाः शिक्षाविद्

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 14 2019 6:07PM
उच्च शिक्षा से समता मूलक समाज की स्थापना का मार्ग प्रशस्त होगाः शिक्षाविद्
अनूपपुर,14 अप्रैल (हि.स.)। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकटंक में डॉ. बीआर अंबेडकर की 128वीं जयंती पर साप्ताहिक कार्यक्रम रविवार को संपन्न हुए। जहां शिक्षाविदों ने उच्च शिक्षा के प्रसार से देश में समता मूलक समाज की स्थापना का मार्ग प्रशस्त करने का आह्वान किया। प्रो. प्रदीप भार्गव ने डॉ. अंबेडकर के पढ़ो, जुड़ो और आगे बढ़ो के नारे का उल्लेख करते हुए कहा कि इसने समाज को एक नई राह दिखाई। ज्ञान सिर्फ शास्त्रों या किताबों से नहीं बल्कि अनुभवों से मिलता है। स्वयं के अनुभवों को दूसरों के साथ साझा करके भी नए शास्त्रों का निर्माण संभव है। इसके लिए उच्च शिक्षा एक माध्यम का कार्य कर सकती है। प्रो. किशोर गायकवाड़ ने डॉ. अंबेडकर के संघर्ष को रेखांकित करते हुए कहा कि वह जातिगत समानता के साथ भाषा, आर्थिक और सामाजिक समानता के भी पक्षधर थे। उनका कहना था कि जब तक सभी वर्गों को समानता नहीं मिलती तब तक राजनीतिक समानता का कोई अधिक महत्व नहीं है। मॉडल ट्राइबल स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ. राजनारायण ओझा का कहना था कि डॉ. अंबेडकर ने भारत को एकसूत्र में पिरोने का कार्य किया। शिक्षा के माध्यम से नए भारत की परिकल्पना को सभी के सम्मुख प्रमुखता से प्रस्तुत किया। डॉ.आनंद सुगंधे ने कहा कि विकासपरक सोच का नया आयाम प्रस्तुत करते हुए समाज के सभी वर्गों के विकास का मुद्दा उठाया जिससे समता मूलक समाज की स्थापना संभव हो। इससे पूर्व प्रात: विश्वविद्यालय के शिक्षकों ने कुलसचिव पी.सिलुवैनाथन, प्रो.गायकवाड़, प्रो.दिलीप सिंह, प्रो. रविंद्रनाथ मनुकोंडा के नेतृत्व में डॉ. अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। डॉ. अंबेडकर चेयर के तत्वावधान में आठ अप्रैल से प्रारंभ हुए डॉ. अंबेडकर जयंती समारोह के कार्यक्रम रविवार को संपन्न हुआ। जहां शोध छात्रों के लिए सामाजिक विज्ञान में लिंग आधारित अध्ययन पर विशेष कार्यशाला आयोजित की गई। इसके साथ ही छात्रों के लिए विभिन्न वर्गों में प्रश्नोत्तरी और भाषण प्रतियोगिताएं आयोजित की गई और डॉ. अंबेडकर के जीवन पर आधारित फिल्म का प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रमों और प्रतियोगिताओं में डॉ.अंबेडकर चेयर के रिसर्च ऑफिसर डॉ.विमल राज और शिव नारायन गुप्ता सहित बड़ी संख्या में शिक्षक और छात्र उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश / मुकेश
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image