Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, अप्रैल 20, 2019 | समय 20:25 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

श्रद्धाभाव से मनाया गया भगवान श्रीराम का जन्मोत्सव

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 13 2019 8:38PM
श्रद्धाभाव से मनाया गया भगवान श्रीराम का जन्मोत्सव
गुना, 13 अप्रैल (हि.स.)। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का जन्मोत्सव शनिवार को श्रीराम नवमी के रुप में धूमधाम के साथ पूर्ण श्रद्धाभाव के साथ मनाया गया। इस दौरान भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला, कौशल्या हितकारी के स्वरों से वातावरण गुंजयमान होता रहा। इस दौरान जहां मंदिरों एवं घरों में भगवान श्री राम की पूजा अर्चना हुई तो भव्य शोभायात्राएं भी निकलीं। पर्व रविवार, 14 अप्रैल को भी मनेगा। श्री रामनवमी के अवसर पर शुक्रवार को पूरा शहर राम के रंग में रंग गया था। शनिवार को अलसुबह से ही जो श्रीराम की भक्ति का दौर शुरु हुआ तो वह देर रात तक चलता रहा। घरों में भगवान श्रीराम की पूजा अर्चना की गई तो मंदिरों में भी मर्यादा पुरुषोत्तम की आराधना हुई। इसके साथ बजरंगगढ़ किला मंदिर, जयस्तम्भ चौराहे स्थित सत्यनारायण मंदिर, हनुमान चौराहा मंदिर, टेकरी सरकार मंदिर, कैन्ट का हनुमान मंदिर सहित अन्य मंदिरों पर दर्शनार्थ भक्तों का तांता लगा रहा। इसके साथ ही चैत्र नवरात्र का समापन हुआ। श्रीराम जी सेना चली श्रीरामनवमी के अवसर पर दिन भर शोभायात्रा का क्रम चलता रहा। अखिल भारतीय रघुवंशी क्षत्रिय महासभा और कुशवाह समाज ने शहर में शोभायात्रा निकालीं। रघुवंशी समाज ने प्रताप छात्रावास से तो कुशवाह समाज ने पुरानी छावनी स्थित श्रीराम जानकी मंदिर से शोभायात्रा निकाली। प्रताप छात्रावास में बीते रोज शुरु हुआ श्री अखण्ड रामायण पाठ का आज पूर्णाहूति के साथ हवन-पूजन कर विसर्जन किया गया। इसके बाद दोपहर में भगवान श्रीराम की विशाल शोभा यात्रा निकाली गई। शोभायात्रा प्रताप छात्रावास से शुरू होकर हाटरोड, निचला बाजार, सदर बाजार, लक्ष्मीगंज, जयस्तभ चौराहा, एबी रोड, हनुमान चौराहा, अंबेडकर चौराहा होते हुए वापस प्रताप छात्रावास पहुंची, जहां भगवान श्रीराम की महाआरती की गई और इसके बाद महाप्रसादी का वितरण किया गया। इस मौके पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे। शाोभायात्रा में झांकियों ने भी आकर्षित किया। रघुवंशी समाज की शोभायात्रा में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम चित्र के रुप में रथ पर विराजित थे। इसके साथ ही कुशवाह समाज की शोभायात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया। इस दौरान भगवा ध्वज लहराते रहे तो वातावरण में जय श्रीराम का जयघोष होता रहा। इसके साथ ही शोभायात्रा में अखाड़े भी शामिल हुए, वहीं शक्ति और शौर्य के प्रतीकों का भी प्रदर्शन होता रहा। जिन मार्गों से शोभायात्रा निकाली वातावरण और धर्ममय हो गया। इसके साथ ही तहसील अंचल में भी मर्यादा पुरुषोत्तम का जन्म दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर पूजन अर्चना के साथ शोभायात्रा निकालीं गईं। आरोन, राघौगढ़, चांचौड़ा, कुंभराज, रुठियाई, म्याना, बीनागंज, बजरंगगढ़ में श्रीरामनवमी मनाई गई। चांचौड़ा मं रामनवमी की शोभायात्रा सदर बाज़ार मुख्य बड़े हनुमान मंदिर से प्रारंभ हुआ। इसके साथ ही घर घर मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की आरती उतार कर पूजा की गई। 12 करोड़ महामंत्र का होगा जाप राम नवमीं के मौके पर विराट हिन्दू उत्सव समिति द्वारा द्वितीय 12 करोड़ महामंत्र ''हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे-हरेÓ नाम जाप अभियान का शुभारंभ किया। समिति के संस्थापक अध्यक्ष कैलाश मंथन ने बताया कि प्रात: काल चतुर्भुज श्री द्वारिकाधीश मंदिर सदर बाजार में सतत राम नाम जप करने की जिम्मेदारियां सौंपी गई। प्रथम चरण में 108 वैष्णव मंदिरों में 12 करोड़ भगवत नाम का जाप किया जाएगा। श्री मंथन के मुताबिक वर्तमान कलिकाल मेेंं भगवान की भक्ति के लिए एकमात्र अपने इष्ट का नाम जप ही भक्ति-मुक्ति एवं मोक्ष प्राप्ति का श्रेष्ठ साधन है। इस महामंत्र के 12 करोड़ जाप करने से समस्त सिद्धियां, ऐश्वर्य, सुख शांति एवं अंत में भक्ति-मुक्ति की प्राप्ति एवं परमात्मा से साक्षात्कार हो सकता है। विजयादशमी तक चलेगा राम नाम जप राम जन्म महोत्सव के अवसर पर प्रमुख मंदिरों एवं पुष्टिमार्गीय केंद्रों पर पालना महोत्सव, संकीर्तन बौद्धिक, वार्ता प्रसंग आदि कार्यक्रम आयोजित हुए। अंचल के सभी प्रमुख मंदिरों में विराट हिन्दू उत्सव समिति, चिंतन मंच, अंतर्राष्ट्रीय पुष्टिमार्गीय वैष्णव परिषद, जनसंवेदना, गीता प्रसार संघ, नाम संकीर्तन संघ, सनातन धर्म प्रचार समिति सहित अनेक सामाजिक धार्मिक संगठनों के कार्यकर्ताओं एवं प्रतिनिधियों ने भगवन नाम जप अभियान में हिस्सेदारी की। हिउस प्रमुख कैलाश मंथन ने बताया कि भगवन नाम जप अभियान लगातार विजयादशमी तक जारी रहेगा। इस अभियान में प्रत्येक घर के सदस्य अपने घरों में ही हरे राम महामंत्र का प्रतिदिन एक से लेकर 16 मालाएं अथवा मंत्र लेखन कर सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक / मुकेश
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image