Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, अप्रैल 20, 2019 | समय 20:29 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

महाभारत के अदृश्य शौर्य से परिचित कराएगा शमशान महापर्व नाटक

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 13 2019 8:31PM
महाभारत के अदृश्य शौर्य से परिचित कराएगा शमशान महापर्व नाटक
गुना, 13 अप्रैल (हि.स.)। विनर सोसायटी आर्ट एण्ड कल्चर द्वारा रविवार, 14 अप्रैल को महाभारत की कहानी पर आधारित शमशान महापर्व नाटक का मंचन मानस भवन में शाम 7 बजे से किया जाएगा। विशाल कलम्बकर उज्जैन द्वारा लिखित इस नाटक का निर्देशन रंगकर्मी मधुर जैन द्वारा किया जाएगा। जिसमें चांडाल, वृद्ध मां, गांधारी, कृष्ण, अश्वत्थामा, सैनिक सहित करीब एक दर्जन से पात्रों का अभिनय शहर एवं आसपास के 30 रंगकर्मियों द्वारा किया जाएगा। नाटक के निर्देशक मधुर जैन ने शनिवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि उक्त नाटक की तैयारी के लिए पिछले एक माह से कार्यशाला आयोजित की जा रही थी। जिसमें उनके द्वारा नि:शुल्क युवाओं, बच्चों एवं बड़ों को रंगमंच के गुर सिखाए जा रहे थे। जैन के अनुसार अभिनय की पहली सीढ़ी रंगमंच है। आज बड़ी संख्या में युवा भटकाव की वजह से सीधे बिना तैयारी के मुंबई चले जाते हैं। यहां उनकी मोटी फीस लगती है तो सफलता नहीं मिल पाती। निर्देशक मधुर जैन ने बताया कि नाटक में मुख्य भूमिका चांडाल की है, जिसका अभिनय सौरभ जैन द्वारा किया जा रहा है। जो रंगमंच से पहली ही बार जुड़े हैं। वहीं गांधारी के मुख्य रूप रोल रेणुका बरसैया द्वारा किया जा रहा है। नाटक के बारे में बताते हुए जैन ने बताया कि नाटक वस्तुत: महाभारत के उस अदृश्य शौर्य पर आधारित है। जिसने महाभारत को ऐतिहासिक बनाया। यह कोई एक शौर्य नहीं किन्तु उन अनगिनत सैनिकों का शौर्य है जो अपने योद्धाओं के पाश्व में इतिहास प्रगाढ़ कर रहे थे। वो अंजानी शख्सियत जिन्हें इतिहास में सिर्फ सैनिक कहा। उन्हीं को इंगित करती यह कहानी नाटक में बड़े योद्धाओं की शौर्य से प्रथक आम सैनिकों को नायक के रूप में दर्शाया है। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक/मुकेश
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image