Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, अप्रैल 21, 2019 | समय 11:56 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

कमिश्नर ने किया छात्रावास का औचक निरीक्षण, अधीक्षिका को हटाने के निर्देश

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 12 2019 2:29PM
कमिश्नर ने किया छात्रावास का औचक निरीक्षण, अधीक्षिका को हटाने के निर्देश
अनूपपुर, 12 अप्रैल (हि.स.)। शहडोल कमिश्नर शोभित जैन ने शुक्रवार को कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास पयारी क्रमांक 1 का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान 100 सीट के छात्रावास में 15 छात्राएं उपस्थित एवं छात्रावास अधीक्षिका अनुपस्थित मिली। सहायक अधीक्षिका माया शर्मा ने बताया कि अधीक्षिका प्रशिक्षण में गई हैं। निरीक्षण के दौरान छात्रावास में मिली अनियमितताएं देख कमिश्नर ने नाराजगी जताई और अधीक्षिका को तत्काल हटाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये। कमिश्नर के निरीक्षण के दौरान छात्रावास में पेयजल का आरओ बंद पाया गया तथा चौकीदार भी अनुपस्थित रहा। सहायक अधीक्षिका ने बताया कि शौचालय की साफ-सफाई हेतु सप्ताह में दो दिन स्वीपर आता है। छात्रावास के अन्दर शौचालय आदि में साफ-सफाई का काफी अभाव देखने को मिला। छात्रावास भवन की पुताई भी नहीं कराई जानी पाई गई, छात्रावास की छात्राओं को नाश्ते में भीगा चना दिया गया था, जबकि मीनू में सत्तू, पोहा व एक फल देना था। छात्राओं ने कमिश्नर को बताया कि स्कूल में पढ़ने जाते हैं, वहां से खाना खाकर आये हैं, जबकि दोपहर का भोजन मीनू के अनुसार रोटी, राजमा व एक गिलास मठ्ठा देना था, भोजन कक्ष में रोशनी का पर्याप्त अभाव पाया गया, किचन में खराब सब्जियां देखकर कमिश्नर ने नाराजगी व्यक्त की और छात्रावास अधीक्षिका को हटाने के निर्देश दिये। सम्भागायुक्त ने देखा कि छात्रावास के बाहर हैण्डपम्प से पानी लाकर उपयोग कर रहें है। छात्राओं के शयनकक्ष में 24 बच्चों के बीच एक सीएफएल तथा चार पंखों में दो बंद थे। इसी प्रकार चम्बल कक्ष के कई बेडों में चादर का अभाव एवं दो सीएफएल बल्ब चालू तथा ट्यूबलाईट बंद है। इसी तरह अन्य कक्ष में पंखे खराब, सीएफएल खराब होने से शयन कक्षों में पर्याप्त रोशनी का अभाव है। इसी प्रकार कमिश्नर ने फुनगा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान एक डॉ. अनुपस्थित एवं एक उपस्थित रहे। उपस्थिति पंजी में 8 अप्रैल से उनके अलावा अन्य किसी स्टॉफ के भी हस्ताक्षर नहीं पाये गये। स्टॉक पंजी सही तरीके से भरी नहीं पाई गई, दवा वितरण एवं भण्डार कक्ष का प्रभार एक ही व्यक्ति को दिया गया पाया गया। चिकित्सालय में समुचित साफ-सफाई नहीं पाई गई एवं दवाईयां अव्यवस्थित रही, जिस पर कर्मचारियों ने बताया कि रैक के अभाव में दवाईयों का रखरखाव समुचित नहीं हो पा रहा है। चिकित्सालय में मरीजों की जो पर्चियां पाई गई, उनमें कम्पाउण्डरों द्वारा दवाई लिखी पाई गई तथा मरीजों के रोग इत्यादि का उल्लेख नहीं पाया गया। शौचालय में साफ-सफाई का तथा पेयजल का आभाव मिला। प्रसव कक्ष प्रभारी द्वारा गत् एक वर्ष से दवाई पंजी का संधारण नहीं मिलने से संभागायुक्त ने इसे शासकीय सेवकों के आचरण के विरूद्ध बताया। अनुपस्थित कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये हैं। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश / मुकेश
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image