Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, अप्रैल 20, 2019 | समय 01:49 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

भुगतान को लेकर भडक़े किसान, लगाया जाम

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 10 2019 8:11PM
भुगतान को लेकर भडक़े किसान, लगाया जाम
गुना, 10 अप्रैल (हि.स.)। मधुसूदनगढ़ कृषि उपज मंडी में बुधवार को दोपहर में अन्नदाता किसान भड़क़ गए। इस दौरान उन्होने मंडी परिसर में जोरदार प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी की। इतना ही नहीं, आक्रोषित किसानों ने चौराहे पर पहुंच जाम के हालात भी निर्मित कर दिए। किसानों में गुस्सा फसल का नगद भुगतान न हो पाने को लेकर था। उनका कहना था कि नगद भुगतान न होने के कारण उनके कई जरुरी काम अटके हुए है, वहीं व्यापारियों का कहना था कि जब उन्हे ही बैंक से पर्याप्त पैसा नहीं मिल पा रहा है तो हम कैसे किसानों को दे दें? यहीं बात बैंक भी कह रहे है। उनका कहना है कि नगदी की मांग फसल का सीजन होने से अधिक बढ़ गई है, जिससे समस्या आ रही है। बहरहाल किसानों के आंदोलनरत होने की सूचना मिलने पर तहसीलदार मौके पर पहुंचे और किसानों को समझाईश देकर शांत किया। आरटीजीएस से हो रहा भुगतान बताया जाता है कि समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए बनाए केन्द्रों पर फसल बेचने के बाद किसानों को नगद भुगतान नहीं हो रहा है। नियमानुसार भुगताव आरटीजीएस के माध्यम से किया जा रहा है। इसके जरिए राशि किसानों के खाते में पहुँच रही है। हालांकि 10 हजार रुपये का भुगतान किसानों को नगद भी किया जा रहा है, वहीं किसान पूरा भुगतान नगद मांग रहे हैं। इसी को लेकर खरीदी के दौरान आए दिन विवाद सामने आ रहे है। बुधवार को विवाद की स्थिति बनी और किसान भडक़ गए। किसानों ने अपनी उपज बेचना बंद कर हंगामा मचाना शुरू कर दिया। जाम लगाने की कोशिश किसानों ने हंगामे के दौरान जाम लगाने की कोशिश भी की। नारेबाजी करते हुए किसान चौराहे तक पहुँच गए और जाम लगाने लगे। इस बीच सूचना मिलने पर तहसीलदार सिद्धार्थ भूषण मौके पर पहुँच गए थे, जिन्होने किसानों को समझाइश देकर शांत कराया। साथ ही मंडी प्रबंधन से भी चर्चा की। इस दौरान करीब एक सैकड़ा किसान मौजूद रहे। बड़े पैमाने पर हो रही है आवक कृषि मंडी में इन दिनों फसल का सीजन होने से बड़े पैमाने पर आवक हो रही है। गेहूं, चना, धनिया सहित अन्य फसलों बंपर आवक के चलते मंडी गुलजार है। मंडी परिसर में ट्रेक्टर-ट्रॉलियों का जमावड़ा लग रहा है तो जगह-जगह गेहूँ, चने के ढेर देखने मिलने के साथ ही धनिए की खुशबू भी फैल रही है। हालांकि जितने बड़े पैमाने पर मंडी में आवक हो रही है, उसके हिसाब से मंडी में व्यवस्थाएं नहीं जुटाई गईं है। न तो छाया आदि का इंतजाम किया गया है और न पानी की समूचित व्यवस्था है। इसके चलते गर्मी के मौसम में 42 डिग्री तापमान के बीच किसानों को परेशान होना पड़ रहा है। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक / मुकेश
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image