Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, अप्रैल 25, 2019 | समय 01:34 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

सेना को मिली जबलपुर में बनी स्वदेशी 'धनुष' तोप की पहली खेप

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 8 2019 5:11PM
सेना को मिली जबलपुर में बनी स्वदेशी 'धनुष' तोप की पहली खेप
-दुश्मन के राडार को चकमा देने में सक्षम है यह तोप -स्वदेशी तोप की ताकत से थर्राये हुए हैं कई देश जबलपुर, 08 अप्रैल (हि.स.)। भारतीय सेना को सोमवार को स्वदेशी तकनीक और ताकत से बनाई गईं ''धनुष'' तोपों की पहली खेप सौंप दी गई। प्रदेश की संस्कारधानी जबलपुर के खमरिया स्थित आयुध निर्माणी (गन कैरिज फैक्ट्री) में निर्मित इन 155 एमएम/45 कैलिबर गन यानी ''धनुष'' तोप को स्वदेशी तकनीक से बनाया गया है। आज एक कार्यक्रम में इन तोपों को भारतीय सेना को सौंप दिया गया। इस खेप में कुल छह तोपें शामिल हैं। आयुध निर्माणी प्रशासन ने बताया है कि ''धनुष'' तोप बेहद उम्दा है। इन्हें आधुनिक समय के हिसाब से अपग्रेड किया गया है। इन तोपों पर ठंडे व गर्म मौसम का कोई असर नहीं होता है। इससे भारतीय सेना की ताकत और मजबूत होगी। आयुध निर्माणी के अधिकारियों ने कार्यक्रम में सभी अतिथियों को इस तोप की खूबियों से अवगत कराया। प्रशासन ने इन आधा दर्जन धनुष तोपों को भारतीय सेना को सौंपते हुए कहा कि स्वदेशी तकनीक से निर्मित ये तोपें जमीन और आकाश में सामान रूप से मार कर सकती हैं। उन्नत इलेक्ट्रानिक तकनीक से विकसित इन तोपों को दुश्मन का राडार भी नहीं पकड. सकता है।इस तोप की ताकत से कई देश थर्राये हुए हैं। कार्यक्रम में रक्षा उत्पादन सचिव डॉ. अजय कुमार के मुख्य अतिथि और आर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड के महानिदेशक सौरभ कुमार के अलावा कमाडेंट आर्टिलरी स्कूल आरएस कलारिया, लेफ्टिनेंट जनरल आर्टिलरी पीके श्रीवास्तव, हरि मोहन बोर्ड मेंम्बर, रजनीश जौहरी ओएफबी के जीएम आदि लोग मौजूद रहे। ये हैं तोप की कुछ खासियतें- -ये 38 से 40 किमी तक मार कर सकती हैं। -ये जमीन से जमीन और आकाश में सामान रूप से लक्ष्य साध सकती हैं। -ये आधुनिक और कंप्यूटर तकनीक से लैस हैं। -ये सभी तरह के मौसम में मारक क्षमता में दक्ष हैं। -इसकी फायर क्षमता लगभग 18-20 राउंड प्रति मिनट है। -इसकी लागत 14 से 16 करोड. है। हिन्दुस्थान समाचार/ मुकेश/रामानुज
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image