Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, जून 24, 2018 | समय 03:08 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय ने किया थियेटर ओलंपिक्स-2018 का आगाज

By HindusthanSamachar | Publish Date: Feb 13 2018 7:22PM
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय ने किया थियेटर ओलंपिक्स-2018 का आगाज

नई दिल्ली, (हि.स.)। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (रा.ना.वि) ने मंगलवार को ‘फ्लैग ऑफ फ्रेंडशिप’की थीम पर आधारित आठवें थियेटर ओलंपिक्स-2018 का शंखनाद किया। ‘फ्लैग ऑफ फ्रैंडशिप’ थीम का लक्ष्य रंगमंच की कला के माध्यम से सरहदों को जोड़ना और विभिन्न संस्कृतियों, मतों और विचारधाराओं के लोगों को एक साथ लाना है। इस आठवें थियेटर ओलंपिक्स-2018 में 30 देश अपनी नाट्य प्रस्तुतियों से हिस्सा ले रहे हैं। इस भव्य आयोजन के अंतर्गत 17 शहरों में 450 शो, 600 एंबियंस परफार्मेंस और 250 यूथ फोरम शो किए जाएंगे, जिनमें पूरी दुनिया के 25 हजार कलाकार शामिल होंगे। 

इस मौके पर केन्द्रीय संस्कृति मंत्री डॉ.महेश शर्मा, राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के निदेशक वामन केंद्रे एवं राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय सोसायटी के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अर्जुन देव चारण मौजूद रहे।
 
केन्द्रीय संस्कृति मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने प्रेसवार्ता में बताया कि 51 दिवसीय इस कार्यक्रम का उद्घाटन 17 फरवरी 2018 को शाम 6.30 बजे ऐतिहासिक लाल किले से उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू करेंगे।
 
रा.ना.वि के निदेशक वामन केंद्रे ने कहा कि हमें 2500 साल से ज्यादा पुरानी रंगमंच की विरसत पर गर्व होना चाहिए| रंगमंच की कला के जरिये आठवां थियेटर ओलंपिक सांस्कृतिक आदान-प्रदान के लिए एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। इस अंतरराष्ट्रीय आयोजन के साथ हम अपनी रंगमंच की प्रथाओं, इसकी विविधताओं, दर्शन के साथ ही अपने लेखन, कथात्मक और उनके वास्तविक सामर्थ्य और प्रस्तुतिकरण के माध्यमों को वैश्विक दर्शकों के सामने प्रस्तुत करना चाहते हैं।
 
इस मौके पर रा.ना.वि. सोसायटी के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अर्जुन देव चारण ने कहा कि कला, संचार का सबसे प्रारंभिक रूप रहा है। किसी भी कलाकार को सबसे ज्यादा खुशी कला की सराहना करने वाले दर्शकों के सामने प्रदर्शन करने से मिलती है| वे चाहे दुनिया के किसी कोने से आए हों। उन्होंने कहा कि एक तरह से रंगमंच कई संस्कृतियों और परंपराओं को एक छत के नीचे लाकर एकजुट करने का शानदार माध्यम है। 
 
image