Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, अप्रैल 20, 2019 | समय 20:24 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

नियमितता कॅरियर के ग्राफ को पहुंचाती है बुलंदी पर : कैथ

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 15 2019 6:25PM
नियमितता कॅरियर के ग्राफ को पहुंचाती है बुलंदी पर : कैथ
रोहतक, 15 अप्रैल (हि.स.)। कानून के क्षेत्र में धैर्य, कड़ी मेहनत और जुनून के साथ पेशे में नियमितता कॅरियर के ग्राफ को नई ऊंचाइयों प्रदान करती है। यह बात दिल्ली उच्च न्यायायल के न्यायाधीश सुरेश कुमार कैथ ने सोमवार को महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के सेंटर फॉर प्रोफेशनल एंड एलाइड स्टडीज द्वारा आयोजित राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिता के समापन अवसर पर बतौर मुख्यातिथि संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि मूट कोर्ट प्रतियोगिता से विश्लेषणात्मक, बहस और पेशेवर कौशल को बढ़ाने में मदद मिलती है, जिससे समग्र वकालत कौशल को बढ़ावा मिलता है। एमडीयू कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने कहा कि वकालत का पेशा एक व्यवस्थित तरीके से लोगों का प्रतिनिधित्व करने का अवसर प्रदान करता है, जिसमें वकील कानूनी क्षेत्र के सर्जन बने रहते हैं। उन्होंने कहा कि व्यवसाय और सेवा के प्रत्येक क्षेत्र में प्रशिक्षित और कुशल वकील चाहिए। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस मूट कोर्ट प्रतियोगिता से प्रतिभागी छात्रों एवं विधि छात्रों को भविष्य के लिए ग्राहकों और न्यायाधीशों का सामना करने के लिए मानसिक रूप से तैयार करने में मदद मिलेगी। सीपीएएस की निदेशिका प्रो. संतोष नांदल ने बताया दिल्ली मेट्रोपॉलिटन एजुकेशन, नॉएडा की टीम को विजेता के रूप में चुना गया और पेट्रोलियम और ऊर्जा अध्ययन विश्वविद्यालय देहरादून की टीम को उपविजेता घोषित किया गया, जबकि अंजना कामेश्वरी को श्रेष्ठ मूटर व अनुज पचेरीवाल को सबसे अच्छा शोधकर्ता तथा यू.पी.इ.एस को बेस्ट मेमोरियल घोषित किया गया। मुख्यअतिथि ने सभी विजेता विद्यार्थीयों को पुरस्कृत किया। इस अवसर बी.ए. एलएलबी की छात्रा बरखा जैन को बेस्ट स्पोट्र्स वीमेन तथा बीए एलएलबी के छात्र नीलांश हुड्डा को बेस्ट स्पोट्र्स पर्सन ऑफ़ ईयर के अवार्ड से भी सम्मानित किया गया। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/वेदपाल
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image