Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, अप्रैल 20, 2019 | समय 19:54 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

सूचना का अधिकार कानून के प्रति किया जागरूक

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 15 2019 5:40PM
सूचना का अधिकार कानून के प्रति किया जागरूक
नारनौल, 15 अप्रैल (हि.स.)। हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय (हकेंवि), महेंद्रगढ़ में सोमवार को सूचना का अधिकार कानून के प्रति विद्यार्थियों, शिक्षकों व कर्मचारियों को जागरूक किया गया। विश्वविद्यालय के केंद्रीय लोक सूचना कार्यालय की ओर से आयोजित इस कार्यशाला में विशेषज्ञ के रूप में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अजमेर सिंह मलिक ने सूचना का अधिकार कानून की आवश्यकता, प्रयोग व दुरुपयोग से अवगत कराया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर आर.सी. कुहाड़ ने कहा कि नए भारत के निर्माण में युवाओं की भूमिका बेहद अहम है और इसलिए उनकी जिम्मेदारी भी अधिक है। कुलपति ने विद्यार्थियों से कहा कि उन्हें अच्छी तरह से अपने अधिकारों को समझना होगा और ऐसा करके ही किसी दूसरे के हाथ की कठपुतली बने बिना नए भारत के निर्माण में अपना योगदान दे सकेंगे। कार्यशाला में विशेषज्ञ के रूप में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अजमेर सिंह मलिक ने बताया आखिर क्यों सूचना का अधिकार (आरटीआई) की आवश्यकता महसूस हुई। उन्होंने कहा कि नौकरशाही और सरकारी तंत्र में जवाबदेही सुनिश्चित करने के उद्देश्य से लागू इस कानून का जहां कुछ लोगों को लाभ हुआ तो वहीं बहुतायत लोग इसका दुरूपयोग भी कर रहे हैं। प्रोफेसर मलिक ने बताया कि ऐसे कई उदाहरण विभिन्न संस्थानों में सामने आ रहे हैं जिसमें आरटीआई का आवेदन देखने भर से स्पष्ट हो जाता है कि आवेदन सूचना प्राप्त करने के लिए नहीं बल्कि किसी विशेष उद्देश्य से प्रशासन को परेशान करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की व्यक्तिगत जानकारी को सूचना के अधिकार के अंतर्गत प्रदान करने की बाध्यता नहीं है और इसे निजता का हनन बताकर जानकारी देने से इंकार किया जा सकता है। प्रोफेसर अजमेर सिंह ने आरटीआई से जुड़े ऐसे ही विभिन्न पक्षों पर विस्तार से चर्चा की ओर इस कानून के उचित उपयोग के प्रति जागरूक किया। हिन्दुस्थान समाचार/श्याम/अम्बर/सुभाष
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image