Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, अप्रैल 22, 2019 | समय 14:15 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

झांसा मर्डर केस पहुंचा प्रधानमंत्री कार्यालय, पीड़ितों को आस

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 12 2019 6:24PM
झांसा मर्डर केस पहुंचा प्रधानमंत्री कार्यालय, पीड़ितों को आस
इस्माईलाबाद, 12 अप्रैल (हि.स.)। झांसा की दसवीं की छात्रा की दरिंदगी व बारहवीं के छात्र की हत्या का मामला अब प्रधानमंत्री के कार्यालय में पहुंच गया है। इस मामले में अब नया मोड़ आया है। मामले में आरोप लगा है कि बीते साल छात्रा का अपहरण किया गया और उसके बाद उसके साथ दरिंदगी कर हत्या की गई। यहां तक आरोप लगाया गया है कि मामले में प्रदेश सरकार व पुलिस अभी तक केवल आश्वासनों से ही काम चलाते आ रहे हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय ने शीघ्र आवश्यक कदम उठाने का भरोसा दिलाया है। ऐसे में पीडि़त परिवारों को एक बार फिर आस बंधी है। शुक्रवार को छात्रा के पिता सुरेंद्र ने जानकारी देते बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय से कुछ दस्तावेज हासिल हुए हैं। उन्होंने बताया कि मामले की एक शिकायत प्रति कुछ माह पहले प्रधानमंत्री के पास भेजी गई थी। अब उस पर कार्रवाई आरंभ हुई है। सुरेंद्र ने पीड़ा बयान करते कहा कि वे मामले के आरंभिक समय से ही सीबीआई जांच की मांग करते आ रहे हैं। मगर प्रदेश सरकार आश्वासन देकर पीछे हट गई। उसने बताया कि बीते साल के अंत में खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल व राज्यमंत्री कृष्ण बेदी ने सीबीआई जांच करवाने की बात कही थी। मगर कुछ समय बाद जवाब दे दिया। सुरेंद्र ने कहा वह न्याय न मिलने तक संघर्ष जारी रखेगा। क्या है मामला बीते साल नौ जनवरी की शाम को झांसा से दसवीं की छात्रा अचानक लापता हो गई। उसी रोज बारहवीं का छात्र गुलशन लापता हुआ। छात्रा का शव 12 जनवरी को जींद के बुढ़ाखेड़ा के पास एक माइनर के किनारे क्षत विक्षत हालत में मिला। परिजनों के अनुसार मेडिकल में छात्रा से दरिंदगी की पुष्टि तक हुई। 16 जनवरी की शाम को छात्र गुलशन का शव करनाल के पास बटहेड़ा नहर से मिला। जांच में क्या रहा इस मामले में दो एसआईटी गठित की गई। पहली एसआईटी ने करीब 3200 लोगों के बयान दर्ज किए। झांसा से जींद तक के सभी मोबाइल टावर खंगाले गए। इसके बाद बताया गया कि दोनों की आत्महत्या के आसार नजर आए हैं। इसके बाद दूसरी एसआईटी गठित की गई। इससे भी पीडि़त परिवारों की संतुष्टि नहीं हुई। दोनों पीडि़त परिवार बार बार सीबीआई जांच की मांग करते आ रहे हैं। इस मामले की जांच एडीजीपी डा. आर सी मिश्रा की देखरेख में हुई थी। हिन्दुस्थान समाचार/ दीप चंद/पंकज
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image