Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, अप्रैल 24, 2019 | समय 04:11 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

‘मैं भी किसान’ आंदोलन को लेकर की बैठक

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 10 2019 7:38PM
‘मैं भी किसान’ आंदोलन को लेकर की बैठक
तरावड़ी/करनाल, 10 अप्रैल (हि.स.)। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष राजेन्द्र आर्य दादूपुर ने बुधवार को ''मैं भी किसान'' नामक राष्ट्रव्यापी आंदोलन को लेकर भैणीकलां, भैणीखुर्द, झंझाड़ी, शामगढ़, तरावड़ी सहित नीलोखेड़ी खंड के दर्जनभर गांवों का दौरा किया। राजेन्द्र आर्य ने गांवों का दौरा करने के दौरान किसानों को कहा कि देश के आम चुनाव में सभी पार्टियां किसान, मजदूर की अनदेखी कर रही है, किसी भी पार्टी के घोषणा पत्र में किसान, मजदूर के हित का कोई एजेंडा ही नहीं है। सभी दलों ने पाकिस्तान-पाकिस्तान चिल्लाकर किसान, मजदूर, गांव-देहात, गरीब-मजलूल के मुद्दों को दबा दिया है। राजेन्द्र आर्य ने कहा कि सभी पार्टियां अपने कार्यकाल में किए गए किसान हितकारी कामों पर श्वेतपत्र जारी करें। चुनाव के इस माहौल में सभी दलों को किसान एवं खेती को बचाने की चुनौती स्वीकार करनी चाहिए। इस आंदोलन का मुख्य उद्देश्य राजनीतिक दलों तक किसानों की मांगों को पहुंचाना एवं पार्टियों के घोषणा पत्रों में किसान और मजदूर के लिए लाभकारी योजनाओं को शामिल करवाना है। उन्होंने कहा कि देश की कृषि प्रधान छवि को बचाए रखने के लिए सभी किसानों को एकजुट होना पड़ेगा। सरसों का दाम 42 सौ रुपये प्रति क्विंटल होने के बावजूद मंडियों में किसान की सरसों को 32 सौ रुपये क्विंटल में लूटा जा रहा है। ट्यूबवेल कनेक्शन के लिए किसान बिजली कार्यालयों के धक्के खाने पर मजबूर हैं। जब तक एम.एस.पी. एक्ट बनाकर लागू नहीं किया जाता, तब तक किसानों को फसलों का उचित दाम नहीं मिल सकता। एकमुश्त संपूर्ण कर्जामाफी और स्वामीनाथन की रिपोर्ट एक साथ लागू करने पर ही किसान की आत्महत्या रुक सकती है। गन्ना समेत सभी फसलों का मूल्य स्वामीनाथन के अनुसार बढ़ाकर फसलों पर बोनस दिया जाए। जब तक सभी मुख्य राजनीतिक पार्टियां किसान हितकारी एजेंडे को घोषणापत्रों में शामिल नहीं करती, तब तक मैं भी किसान आंदोलन जारी रहेगा। मूल्य और मूल्यांकन के बीच की अस्पष्टता किसान आत्महत्या का मुख्य कारण है। कांग्रेस ने जो धोखा किसानों के साथ किया, भाजपा ने उसे दोगुना करके किसानों को परोसा है। चुनावी माहौल में आचार संहिता का बहाना बनाकर अफसर किसानों को टरका रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सन्दीप/अम्बर/दधिबल
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image