Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, अप्रैल 22, 2019 | समय 14:01 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

आरओबी की सामग्री की गुणवत्ता की जांच की कई बार उठ चुकी है मांग

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 8 2019 7:20PM
आरओबी की सामग्री की गुणवत्ता की जांच की कई बार उठ चुकी है मांग
आरओबी के नीचे खड़े रहते हैं सैंकड़ों रेहड़ी वाले, सर्विस रोड से भी गुजरते रोजाना हजारों लोग दिल्ली के आईआईटी विशेषज्ञ से कराएंगे जांच, सरकार से मांगी है स्वीकृति: एसडीओ रेवाड़ी, 8 अप्रैल (हि.स)। कोसली स्टेशन क्षेत्र में सोमवार को साल्हावास-नाहड़ रोड पर बनाए गए रेल ओवर ब्रिज की रेलिंग टूट कर गिरने से जहां एक कार क्षतिग्रस्त हो गई, वहीं उसमें बैठी सवारी हादसे का शिकार होने से बाल-बाल बच गई। रेलिंग गिरने से पुल के नीचे से गुजर रहे एक व्यक्ति को हलकी चोट भी लगी है। इधर लोगों ने आशंका जताई है कि यदि पुल निर्माण में लगाई गई सामग्री की गुणवत्ता की जांच कर इसे ठीक नहीं किया गया तो यहां भी कोलकाता जैसा हादसा हो सकता है। इधर लोक निर्माण विभाग के एसडीओ ने बताया कि सामग्री की गुणवत्ता की जांच की प्रक्रिया जारी है। दिल्ली के आईआईटी के विशेषज्ञ को बुलाकर जांच कराई जाएगी। इसके लिए सरकार से स्वीकृति मांगी गई है। गौरतलब है कि कोसली के साल्हावास-नाहड़ रोड पर बनाए गए रेल ओवरब्रिज में लगाई गई सामग्री की गुणवत्ता को लेकर स्थानीय लोग कई बार आवाज उठा चुके हैं। लोगों का कहना रहा है कि आरओबी की छत व सड़क कई बार टूट चुकी है। इसका मलबा गिरने से लोग कई बार बच चुके हैं। लोगों ने कई बार सामग्री की गुणवत्ता की जांच की मांग उठाई है, बावजूद इसके इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया है। बताया जाता है कि रेल ओवरब्रिज के दोनों ओर सर्विस रोड है, जहां से रोजाना हजारों लोगों का आना-जाना है। पुल के नीचे भी लोग फ्रूट व अन्य तरह के सामान की रेहड़ी लगाकर अपना जीवन-यापन कर रहे हैं। सोमवार को भी वहां का दृश्य ऐसा ही था कि अचानक पुल पर लगी रेलिंग टूट कर गिर गई। यह रेलिंग नीचे से गुजर रही एक कार पर गिरी, जिससे वह क्षतिग्रस्त हो गई। गनीमत यह रहा कि गाड़ी में बैठे लोग बाल-बाल बच गए, लेकिन वहां से गुजर रहा एक व्यक्ति उसकी चपेट में आकर चोटिल जरूर हो गया। लोगों का कहना है कि चूंकि पुल के नीचे लोगों की भीड़ होती है, और यहां कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। क्षेत्र के लोगों ने फिर से आरओबी की सामग्री की गुणवत्ता की जांच किसी सक्षम एवं स्वतंत्र एजेंसी से कराकर इसे ठीक कराने की मांग उठाई है। इधर लोक निर्माण विभाग के एसडीओ बलजीत सिंह ने बताया कि आरओबी की गुणवत्ता की जांच की प्रक्रिया जारी है। दिल्ली आईआईटी के विशेषज्ञ को बुलाकर इसकी जांच कराई जाएगी। इसके लिए सरकार से स्वीकृति मांगी गई है। उन्होंने कहा कि रेंलिंग टूटने के मामले का निरीक्षण कराकर जांच कराई जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेंद्र/वेदपाल \
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image