Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, अक्तूबर 22, 2018 | समय 21:35 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

संस्कृति मंत्री ने हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार के.एल सहगल को ट्वीट कर किया याद

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 11 2018 4:52PM
संस्कृति मंत्री ने हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार के.एल सहगल को ट्वीट कर किया याद
नई दिल्ली, 11 अप्रैल (हि.स.)। केन्द्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने संगीतकार के.एल सहगल के 114वीं वर्षगांठ पर ट्विट कर याद किया। महेश शर्मा ने अपने ट्विट में कहा कि हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार संगीतकार के.एल सहगल को हम सब उनके शानदार अभिनय के लिए हमेशा याद करेंगे। गूगल ने भी प्रसिद्ध गायक और अभिनेता के.एल. सहगल के 114वें जन्मदिन (11 अप्रैल, 2018) पर उन्हें अपने डूडल के माध्यम से श्रद्धांजलि अर्पित की। गूगल ने डूडल के जरिए के.एल. सहगल को अपने खास अंदाज में याद किया। गूडल ने सहगल के कैरिकेचर के जरिए उन्हें माइक के सामने गाते हुए दिखाया है। कुंदन लाल सहगल भारतीय हिन्दी सिनेमा के पहले सुपरस्टार माने जाते हैं। उल्लेखनीय है कि 11 अप्रैल 1904 को जम्मू के नवाशहर में जन्मे कुंदन लाल सहगल भारतीय सिनेमा के पहले सुपरस्टार थे। वर्ष 1935 में शरत चंद्र चट्टोपाध्याय के उपन्यास पर आधारित पी.सी.बरूआ निर्देशित फिल्म ‘देवदास’ की कामयाबी के बाद बतौर गायक-अभिनेता सहगल शोहरत की बुलंदियों पर जा पहुंचे। कई बंगाली फ़िल्मों के साथ-साथ न्यू थियेटर के लिए उन्होंने 1937 में ‘प्रेंसिडेंट’, 1938 में ‘साथी’ और ‘स्ट्रीट सिंगर’ तथा वर्ष 1940 में ‘ज़िंदगी’ जैसी कामयाब फ़िल्मों को अपनी गायिकी और अदाकारी से सजाया। वर्ष 1941 में सहगल मुंबई के रणजीत स्टूडियो से जुड़ गए। वर्ष 1942 में प्रदर्शित उनकी ‘सूरदास’ और 1943 में ‘तानसेन’ ने बॉक्स ऑफिस पर सफलता का नया इतिहास रचा। वर्ष 1944 में उन्होंने न्यू थियेटर की ही निर्मित फिल्म ‘मेरी बहन’ में भी काम किया। अपने दो दशक के सिने करियर में सहगल ने 36 फिल्मों में अभिनय भी किया। हिंदी फिल्मों के अलावा उन्होंने उर्दू, बंगाली और तमिल फिल्मों में भी अभिनय किया। सहगल ने अपने संपूर्ण सिने करियर के दौरान लगभग 185 गीत गाए, जिनमें 142 फ़िल्मी और 43 गैर-फिल्मी गीत शामिल हैं। अपनी दिलकश आवाज से सिने प्रेमियों के दिल पर राज करने वाले के.एल.सहगल 18 जनवरी, 1947 को केवल 43 वर्ष की उम्र में इस संसार को अलविदा कह गए। हिन्दुस्थान समाचार/सुभाषिनी/राधा रमण
image