Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 10:48 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

युवाओं में एचआईवी संक्रमण ने बढ़ाई मिजोरम सरकार की चिंता

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 25 2018 11:38AM
युवाओं में एचआईवी संक्रमण ने बढ़ाई मिजोरम सरकार की चिंता

- 18 साल में हजारों की आबादी हुई संक्रमित

- लगातार बढ़ रही संख्या

संजीव

आईजोल। पूर्वोत्तर का छोटा सा 11 लाख की आबादी वाला राज्य मिजोरम एचआईवी संक्रमण के मामले में देश में पहले स्थान पर है।  चिंताजनक यह खुलासा हुआ है इंडियन एचआईवी एस्टिमेशन्स 2017 टेक्निकल रिपोर्ट में। रिपोर्ट के मुताबिक मिजोरम एचआईवी संक्रमण के मामले में देश में पहले पायदान पर है। 

संक्रमित लोगों की संख्या में लगातार इजाफा

राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन की 2017 की अनुमान रिपोर्ट कहती है कि मिजोरम देश के उन पांच राज्यों में से एक है, जहां संक्रमण से पीडि़त लोगों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। संगठन की ओर से जिन लोगों के खून के नमूने जांचे गए उनमेंसे करीब 2 प्रतिशत लोग एचआईवी संक्रमित पाए गए। 

कुल आबादी में 1.6 फीसदी हैं संक्रमित

मिजोरम एड्स नियंत्रण सोसायटी (एमएसएसीएस) से प्राप्त आंकड़ों की मानें, तो पिछले 18 साल में राज्य में 18000 से ज्यादा लोग एचआईवी से संक्रमण से ग्रसित पाए गए हैं। यह संख्या राज्य की कुल आबादी के 1.6 प्रतिशत बैठती है। 

समलैंगिकता भी बड़ा कारण

एचआईवी संक्रमण के कई कारण हैं, लेकिन रिपोर्ट में स्पष्ट किया गया है कि मिजोरम में एचआईवी फैलने के प्रमुख कारणों में असुरक्षित यौन संबंध जिम्मेदार हैं। रिपोर्ट के मुताबिक नागालैंड और मणिपुर में एचआईवी संक्रमण के मामले मिजोरम से कम हैं। यहां संक्रमण क्रमश: 1.15 फीसदी और 1.43 फीसदी है। संक्रमण फैलने के अन्य कारणों में सुई के दोबारा इस्तेमाल और समलैंगिकता भी बड़ा कारण है। 

25-34 साल के युवा सबसे ज्यादा शिकार

मिजोरम में एचआईवी संक्रमण का शिकार सबसे ज्यादा युवा वर्ग है। यहां  25-34 साल आयु वर्ग के युवाओं में एचआईवी संक्रमित लोगों की संख्या 42 प्रतिशत से अधिक है, जबकि 35-49 आयु वर्ग के 26 फीसदी लोग एचआईवी से संक्रमित हैं।

image