Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, नवम्बर 20, 2018 | समय 23:47 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

कृष्णा गौर का टिकट लगभग पक्का

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 30 2018 5:43PM
कृष्णा गौर का टिकट लगभग पक्का

भोपाल, 30 अक्टूबर(हि.स.)। बगावत के सुर गाने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं को एक बार फिर निराश होना पड़ा है। इस बार गौर परिवार से दूरियां बनाने वाली भाजपा ने सर्वे में कृष्णा गौर का नाम सामने आने पर उन्हें टिकट देने का मन बना लिया है। 

गौरतलब है कि पिछले दिनों कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं ने गोविंदपुरा सीट के लिए बाबूलाल गौर का विरोध करते हुए भाजपा पर परिवारवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए गौर नहीं इस बार कोई और के नारे लगाए थे। उन्हें उम्मीद थी कि ये विरोध करने से उन्हें टिकट मिल जाएगा। लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ गोविंदपुरा विस क्षेत्र में जनसंपर्क करती पूर्व महापौर कृष्णा गौर को देखकर इस बार गोविंदपुरा सीट का सपना देख रहे विरोधी सुर गाने वाले कार्यकर्ताओं की उम्मीदों पर पानी फिरता नजर आ रहा है।

एक तीर से तीन निशाने

बाबूलाल गौर को नहीं इस बार कृष्णा गौर को टिकट देकर भाजपा एक तीर से तीन निशाने साधने का काम कर रही है। पहला युवाओं को मौका देने के नाम पर बाबूलाल गौर को राजनीतिक सक्रियता से अलग करना, दूसरा कृष्णा गौर को टिकट देकर महिलाओं को टिकट देने का वादा पूरा करना तथा तीसरा कृष्णा गौर को टिकट देने से वह महिलाओं व ओबीसी मतदाताओं को संतुष्ट करना।

जानें ये भी 

- पार्टी के दिग्गजों ने बाबूलाल गौर की उम्र के मद्देनजर इस बार उनकी बहू को टिकट देने का मन बनाया है। 

-जबकि बाबू लाल गौर इस सीट से 10 बार चुनाव जीते हैं।

- यह भाजपा की स्थायी सीट है, यही कारण है कि इस सीट के लिए कई दावेदार हैं। 

- इस सीट से महापौर आलोक शर्मा, पर्यटन निगम अध्यक्ष तपन भौमिक, प्रदेश के मुख्य प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय, आईटी सेल प्रभारी शैलेंद्र शर्मा तथा पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष मनोरंजन मिश्रा दावेदारी कर रहे हैं। 

- सीट का यही स्थायित्व पार्टी के ही कार्यकर्ताओं के लिए टिकट की उम्मीद था।

- यहां वर्ष 2013 में भी विस चुनाव के दौरान कृष्णा गौर का नाम सामने आया था, लेकिन उस समय उनके श्वसुर बाबूलाल गौर को ही टिकट दिया गया था।

हिन्दुस्थान समाचार/ संजीव

image