Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, अप्रैल 21, 2019 | समय 16:13 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

एमसीडी और सुरक्षा बलों के दस्ते की भीड़ से हिंसक झड़प

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 13 2019 9:08PM
एमसीडी और सुरक्षा बलों के दस्ते की भीड़ से हिंसक झड़प
नई दिल्ली, 13 अप्रैल (हि.स.)। पश्चिम दिल्ली के मायापुरी में प्रदूषण फैलाने को लेकर एनजीटी के आदेश पर सीलिंग करने पहुंचे एमसीडी और सुरक्षा बलों के दस्ते की भीड़ से हिंसक झड़प हो गई। भीड़ ने पुलिस व सुरक्षा बलों के जवानों पर पथराव करने के अलावा उनसे मारपीट भी की। इस दौरान कुछ लोगों ने उनके हथियार तक छीन लिए। पथराव में वहां खड़ी दस से ज्यादा सरकारी और निजी वाहनों से शीशे टूट गए। बवाल की सूचना मिलते ही अतिरिक्त सुरक्षा बल को मौके पर बुलाया गया। बाद में लाठियां भांजकर हालात को काबू किया गया। करीब एक घंटे चले बवाल के बाद पुलिस एवं सुरक्षा बलों ने लोगों को शांत कराया। देर शाम तक इलाके में तनाव का माहौल था। संयुक्त आयुक्त समेत जिले के तमाम वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर मौजूद थे। बवाल में पुलिस और सुरक्षा बलों के कई जवान गंभीर रूप से घायल हो गए, जबकि आम लोगों के भी घायल होने की सूचना है। घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने बलवा करने, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और शांति भंग करने का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार मायापुरी इंडिस्ट्रयल एरिया (कबाड़ मार्केट) को लेकर पिछले दिनों एनजीटी ने सीलिंग का आदेश दिया था। दरअसल मायापुरी में गैस कटर व अन्य तरीकों से होने वाले प्रदूषण को लेकर एनजीटी सख्त था। इसकी जांच के लिए एक एसटीएफ का गठन किया गया था। उसमें एमसीडी के अलावा डीपीसीबी और दिल्ली सरकार के एसडीएम ने भी अपनी जांच रिपोर्ट एनजीटी को सौंपी थी। उसी के आधार पर एनजीटी ने मार्केट की दुकानों को सील करने का आदेश दिया था। आरोप है कि शनिवार सुबह करीब 10 बजे बिना सूचना दिए निगम का दस्ता दिल्ली पुलिस, सीआरपीएफ और आईटीबीपी के जवानों के साथ वहां पहुंच गया। जैसे ही निगम के दस्ते ने सीलिंग की कार्रवाई शुरू की, विरोध शुरू हो गया। इधर देखते ही देखते दुकानदारों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई। लोगों ने एनजीटी, निगम और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। लोगों का आरोप था कि सीलिंग से पूर्व निगम के दस्ते ने पिछले सप्ताह अतिक्रमण हटाने के नाम पर बहुत ज्यादती की थी। मौके पर लोगों की भीड़ बढ़ती देख पुलिस अधिकारियों ने उन्हें समझाने की कोशिश की लेकिन भीड़ का गुस्सा बढ़ता रहा। दोपहर करीब 12.30 बजे भीड़ ने सुरक्षा बलों व पुलिस पर पथराव कर दिया। शुरुआत में भीड़ ने आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवानों से मारपीट शुरू कर दी। इस दौरान कुछ लोगों ने तो उनके हथियार भी छीन लिए, हालांकि बाद में उनके हथियारों को लौटा दिया गया। इधर हालात बिगड़ने पर अतिरिक्त फोर्स को बुलाया गया। बाद में सुरक्षा बलों ने भीड़ को लाठियां भांजकर खदेड़ दिया। करीब एक घंटे चले बवाल में कई पुलिस कर्मियों के सिर फूट गए। कई अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। सुरक्षा बलों ने हालात काबू कर सीलिंग की कार्रवाई शुरू करवा दी थी। देर शाम तक मायापुरी इलाके में भारी तनाव था। बवाल में घायल हुए जवानों को अलग-अलग अस्पताल में भर्ती कराया गया। संयुक्त आयुक्त मधुप तिवारी और जिला पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज मौके पर डटे हैं। पुलिस केस दर्ज कर जांच कर रही है। बवाल करने वालों की वीडिया फुटेज के आधार पर पहचान करने का प्रयास किया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी/आकाश
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image