Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, अप्रैल 21, 2019 | समय 13:41 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

स्पेशल 26 की तर्ज पर लूटे 48 लाख रुपये,अब तक कोई सुराग नहीं

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 12 2019 2:21PM
स्पेशल 26 की तर्ज पर लूटे 48 लाख रुपये,अब तक कोई सुराग नहीं
नई दिल्ली, 12 अप्रैल (हि.स.)। पश्चिमी जिले के राजौरी गार्डन इलाके में फिल्मी स्टाइल में एक ट्यूशन टीचर के घर अक्षय कुमार की फिल्म ‘स्पेशल 26’ की कहानी को दोहराते हुए महिला समेत चार बदमाश घर में घुसे। दो बदमाशों ने खुद को इनकम टैक्स विभाग का अधिकारी बताया। जबकि तीसरे व्यक्ति ने खुद को दिल्ली पुलिस का अधिकारी कहते हुए घर की तलाशी का वारंट दिखाया। बदमाशों के साथ एक महिला भी थी। उसके बाद बदमाशों ने पीड़ित से करीब 48 लाख रुपये लिये और मौके से फरार हो गये। आरोपितों के जाने के करीब तीन घंटे बाद पीड़ित को ठगी का पता चला। उसके बाद पीड़ित ने तुरंत मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस केस दर्ज कर आरोपितों की तलाश कर रही है। वहीं इस खबर की पुष्टि करते हुए ज्वाइंट कमिश्नर मधुप तिवारी ने बताया कि पीड़ित की शिकायत पर इस संबंघ में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई। हालांकि बदमाशों का कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। ऐसे हुई घटना पश्चिमी जिले की डीसीपी मोनिका भारद्वाज के अनुसार इंद्रवीर परिवार के साथ राजौरी गार्डन इलाके में रहता है। परिवार में भाई-भाभी व एक भतीजी है। इंद्रबीर गणित का टीचर है। वह प्राइवेट कोचिंग सेंटर चलाता है। पुलिस के अनुसार रुपये लेकर भागने वाले चारों आरोपित गुरुवार दोपहर करीब दो बजे पीड़ित इंद्रवीर के यहां पहुंचे। उस वक्त वह अपनी भाभी के साथ घर में मौजूद था। दो व्यक्तियों ने खुद को इनकम टैक्स अधिकारी बताया। जबकि तीसरे व्यक्ति ने खुद को दिल्ली पुलिस का अधिकारी बताया। तीनों आरोपितों के साथ एक महिला भी थी। उसके बाद आरोपितों ने अपना-अपना नकली आईकार्ड दिखाया और घर की तलाशी का वारंट दिखाकर पूरे घर की तलाशी लेने लगे। बदमाशों ने इन्हें गिरफ्तार करने की धमकी देकर घर में रखी नगदी के बारे में पूछताछ शुरू की और चप्पे-चप्पे की तलाशी लेने लगे। अधे घंटे तक रहे घर में पुलिस के अनुसार सभी आरोपित पीड़ित के घर में करीब अधे घंटे तक रहे। इस दौरान अलग-अलग जगहों पर रखी करीब 48 लाख रुपये की नकदी इन्होंने घर से इक्ट्ठा की और कहा कि गिरफ्तारी चाहते हो या फिर इस रकम को जमा करा टैक्स देना चाहते हों । इस पर डरे-पीड़ित ने बदमाशों से रकम जमा करा टैक्स देने की बात कही। इसके बाद इन्होंने एक फर्जी रसीद भी काट कर दी और यह कहा कि इन्होंने यह रकम इनकम टैक्स विभाग ने जमा कर ली है। इसमें से जितना टैक्स बनेगा, उतना काटकर बाकी की रकम उसे वापस कर दी जाएगी। इसके बाद चारों आरोपित वहां से चले गए। तीन घंटे बाद पुलिस को दी सूचना पुलिस के अनुसार घटना के बाद पीड़ित अपने कुछ जानकारों के जरिये इनकम टैक्स से जुड़े कुछ लोगों से संपर्क साधा और इस घटना के बारे में जानकारी देते हुए उनसे टैक्स के बाद की बाकी रकम लेने का तरीका पूछा। इस पर जब इनकम टैक्स अधिकारियों ने बताया कि इस तरह से विभाग रकम जमा नहीं करता है तो उसके पैरों तले जमीन सरक गई। पीड़ित ने करीब साढ़े चार बजे पुलिस को घटना की सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने इस संबंध में पीड़ित के बयान के आधार पर केस दर्ज किया। 17 साल से जोड़ रहा था पीड़ित रुपये अबतक की पूछताछ में पीड़ित ने बताया कि वह पिछले 2002 से लगातार बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर रकम जमा कर रहा था। उसने धीरे-घीरे कर इतनी रकम जमा की है। नोटबंदी के समय उसकी कुछ पूंजी खराब भी हो गई थी। वह महीने में करीब डेढ़ लाख रुपये तक कमा लेता है। बैंक में ट्रैक्स भरने से बचने के लिये उसने रुपये जमा नहीं करवाया था। 30 डोजियर दिखाने के बाद भी नहीं हुई पहचान पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार जिस तरह यह घटना हुई है, उससे यह साफ है कि आरोपित कोई जानकार है। आरोपितों को यह पता था कि पीड़ित के पास इतनी बड़ी रकम है। पुलिस ने पीड़ित को करीब 30 डोजियर दिखाये, लेकिन पीड़ित आरोपितों की पहचान नहीं कर पाया। पुलिस ने उक्त मामले में अभी तक करीब 50 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पुलिस के अनुसार जांच के दौरान पुलिस को घटना स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरे से आरोपितों की फुटेज मिली है। जिसके आधार पर पुलिस आरोपितों की पहचान करने में जुटी हुई हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी शर्मा / सुभाष
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image