Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, अप्रैल 24, 2019 | समय 03:22 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

दुकान में बुलाकर बच्चियों से छेड़छाड़,आरोपित गिरफ्तार

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 11 2019 7:38PM
दुकान में बुलाकर बच्चियों से छेड़छाड़,आरोपित गिरफ्तार
नई दिल्ली, 11 अप्रैल (हि.स.)। बाहरी उत्तरी जिले के नरेला इलाके में बच्चियों को किसी न किसी तरह का झांसा देकर उनके साथ शारीरिक छेड़छाड़ व गंदी बाते करने वाले एक दुकानदार को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपित की पहचान नवीन के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपित का मोबाइल फोन भी जब्त किया है। जिसको पुलिस खंगालने की कोशिश कर रही है। पुलिस आरोपित से जानने की कोशिश कर रही है, वह कब से वारदातों को अंजाम दे रहा था। जानकारी के अनुसार नवीन की नरेला के बांकनेर गांव में परचून की दुकान है। वहीं पर उसका घर भी है। बीती देर रात इलाके में रहने वाली एक बच्ची उसके पास कुछ सामान खरीदने आई थी। जिसको उसने झांसा देकर दुकान में बुला लिया। उसके आपत्तिजनक अंगों पर हाथ रखने लगा। उसके कपड़े भी उतारने की कोशिश की। बच्ची डरकर अपने घर भाग आई। बच्ची ने परिवार को आपबीती बताई। परिवरा वालों ने मौके पर पहुंचकर नवीन को दुकान से बाहर निकालकर बुरी तरह से पीटा। इस बीच नवीन और उसके परिवार वालों ने भी पीड़ित बच्ची के परिवार वालों से हाथपाई की। पीसीआर को वारदात की सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची। जिन्होंने नवीन को पकड़कर बच्ची का मेडिकल करा उसके बयान दर्ज किये। पुलिस हैरान उस समय हुई। जब इलाके में ही रहने वाली तीन से चार अन्य बच्चियों ने भी पुलिस को बताया कि अंकल उनके साथ भी दुकान में बुलाकर खाने की चीजे देकर गंदी बातें करते है। पुलिस ने करीब चार बच्चियों के बयान दर्ज किये, ये सभी बच्चियां सरकारी स्कूल में तीसरी से पांचवीं कक्षा की छात्राएं हैं। पुलिस को शक है कि नवीन इसी तरह से अन्य बच्चियों के साथ भी शारीरिक छेड़छाड़ कर चुका होगा। उन्होंने उस इलाके में रहने वाले परिवार वालों को बोला है अगर उनकी बच्चियों के साथ मामला हुआ है तो वह जरूर पुलिस को मामले की सूचना दे। अभी तक जो बच्चियां नवीन का शिकार बनी है उनकी पुलिस काउंसलिंग करा रही है। स्थानीय लोगों का कहना है कि वारदात के बाद आरोपित के परिवार का तर्क है आरोपित की दिमागी हालत पूरी तरह ठीक नहीं है, लेकिन खास बात यह है कि जो व्यक्ति दुकान चलाता है, पूरा सामान बेचता है और घर परिवार भी उसी दुकान से चलाता है। कैसे उसका दिमागी संतुलन खराब हो सकता है। वहीं पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली पुलिस समय समय पर बच्चियों को बचाने के लिए और उनको जागरूक करने के लिए गुड-बेड टच जैसे स्कूल आदि जगहों पर कार्यक्रम चलाकर बच्चियों को सावधान करने की कोशिश करती रहती हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी शर्मा
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image