Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, अप्रैल 22, 2019 | समय 06:08 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

खुद को बाबा बताकर कंपनी में निवेश कराने वाला ठग गिरफ्तार

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 10 2019 8:47PM
खुद को बाबा बताकर कंपनी में निवेश कराने वाला ठग गिरफ्तार
नई दिल्ली, 10 अप्रैल (हि.स.)। धार्मिक प्रवचन कर खुद को बाबा बताकर अपनी कंपनी में निवेश कराने के नाम पर ठगी करने वाले कथित बाबा को पूर्वी जिला पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपित की पहचान आचार्य अशोकानंद महाराज (43) के रूप में हुई है। नवंबर 2018 में आरोपित बाबा के खिलाफ पूर्वी दिल्ली के शकरपुर थाने में ठगी की शिकायत दर्ज कराई गई थी। उसके बाद बाबा फरार हो गया था। तभी से पुलिस की कई टीमें उसकी तलाश कर रही थी। पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने बताया कि बाबा को बुधवार उसके ग्रेटर नोएडा स्थित गांव बिसरख से गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपित के खिलाफ अब तक 15 शिकायतें मिल चुकी हैं, जिसमें उसने करीब 70 लाख रुपये की ठगी की है। आशंका व्यक्त की जा रही है कि कथित बाबा ने करोड़ों रुपये निवेश के नाम पर ठगे हैं। मामले में पुलिस बाबा की दो सहयोगी महिलाओं बबीता व रजनी कश्यप समेत कई अन्य लोगों की तलाश कर रही है। पुलिस के अनुसार शिकायतकर्ता नीतू जैन नामक महिला नवंबर माह में बाबा अशोकानंद के धार्मिक कार्यक्रम में गई थी। बाबा मोहन इंफ्राटेक प्राइवेट, लिमिटेड के नाम से एक कंपनी चलाता था। कार्यक्रम के दौरान नीतू की मुलाकात बबीता जैन नामक महिला से हुई। बबीता ने नीतू को कंपनी की बचत योजनाओं के बारे में बताया। उसने कहा कि एक-एक हजार रुपये 10 माह तक निवेश करने पर दस माह बाद 10 हजार के बदले पंद्रह हजार रुपये मिलेंगे। इसके बाद बबीता ने रंजनी कश्यप नामक महिला से उसकी मुलाकात करवाई थी। बबीता ने बताया कि यदि वह अपने जानकार लोगों का भी पैसा कंपनी में लगवाएगी तो उसे अधिक मुनाफा मिलेगा। नीतू ने इस योजना में कई महिलाओं के पैसे निवेश करवा दिए। इधर 10 माह बीतने के बाद नीतू व बाकी महिलाओं ने कंपनी से रुपये मांगे तो कोई उनकी सुनने को तैयार नहीं हुआ। नीतू अन्य महिलाओं के साथ मिलकर कथित बाबा अशोकानंद से मिली। बाबा के कहने पर कुछ लोगों को चेक बांट दिए गए। लेकिन सभी चेक बाउंस हो गए। इधर बाद में पूछने पर अशोकानंद और उसकी दोनों निदेशक बबीता और रंजनी ने रुपये लौटाने से इंकार कर दिया। बाद में मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने शकरपुर थाने में केस दर्ज कर बाबा व उसके सहयोगियों की तलाश शुरू कर दी। ऐसे हुई बाबा की गिरफ्तारी... पुलिस के अनुसार शुरूआती शिकायत के बाद कुल 14.30 लाख रुपये ठगी की बात सामने आई थी। पुलिस ने आरोपित बाबा को समन कर उसे पुलिस की जांच में सहयोग करने का नोटिस दिया, लेकिन बाबा पेश नही हुआ। इधर आरोपित बाबा ने पहले सेशन कोर्ट और बाद में हाईकोर्ट में अंतरिम जमानत की याचिका लगा दी, लेकिन बाबा को कोर्ट से राहत नही मिली। इधर पुलिस की गई टीमें आरोपित की तलाश करती रही। इस बीच बुधवार को पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी बाबा अपने गांव बिसरख, ग्रेटर नोएडा में मौजूद है। पुलिस ने छापेमारी कर आरोपित बाबा को गिरफ्तार कर लिया। ऐसे की जाती थी ठगी जांच के दौरान पुलिस को पता चला है कि ढोंगी बाबा अलग-अलग इलाकों में अपने धार्मिक कार्यक्रम आयोजित करता था। ज्यादातर गृहणियों को टारगेट किया जाता था। प्रवचन के दौरान बाबा अपनी कंपनी मोहन इंफ्राटेक प्राइवेट, लिमिटेड के बारे में इन महिलाओं को बताता था। हर महीने एक हजार रुपये लगाने के बाद 10 माह में 15 हजार रुपये देने का वादा किया जाता था। अपने साथ और लोगों के निवेश करवाने वालों को अतिरिक्त मुनाफा देने की बात की जाती थी। ऐसे में बहुत से बाबा के भक्त इसके जाल में फंस गए और लोगों ने अपनी रकम गंवा दी। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी शर्मा
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image