Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, अप्रैल 24, 2019 | समय 03:36 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

दिल्ली महिला आयोग ने नाबालिग की शादी रुकवाई

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 5 2019 6:13PM
दिल्ली महिला आयोग ने नाबालिग की शादी रुकवाई
नई दिल्ली, 05 अप्रैल (हि.स.)। दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने 13 साल की एक लड़की को दिल्ली के आरकेपुरम क्षेत्र से रेस्क्यू करवाया, जिसकी शादी जबर्दस्ती एक बड़ी उम्र के व्यक्ति से की जा रही थी। डीसीडब्ल्यू के अनुसार लड़की अनाथ है, उसने डीसीडब्ल्यू की 181 महिला हेल्पलाइन पर शिकायत की कि उसके नाना नानी जबर्दस्ती उसकी शादी करवा रहे हैr>शिकायत मिलने पर आयोग ने एक टीम गठित कर उक्त नंबर पर संपर्क किया। फोन पर एक व्यक्ति ने बात की और बताया कि एक 13 साल की लड़की ज्योति (बदला हुआ नाम) की जबर्दस्ती शादी की जा रही है। आयोग की टीम तुरंत उस क्षेत्र में पहुंची और लोगों से ज्योति नाम की लड़की की शादी के बारे में पूछा। वहां लोगों से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला लेकिन आयोग की टीम ज्योति को तलाश करती रही और हर घर में पूछताछ की। एक जगह सार्वजनिक पानी की टंकी के पास एक लड़की पानी भर रही थी, आयोग की टीम ने उससे ज्योति के बारे में पूछा। उसने इशारे से बताया कि वही ज्योति है और उसने अपने घर की तरफ भी इशारा किया। वह पानी भरती रही और आयोग की टीम ने भी तलाशी करने का दिखावा किया। इस दौरान आयोग की टीम ने पुलिस को सूचना देकर बुला लिया। पुलिस की सहायता से लड़की के मामा और आसपास के लोगों के विरोध के बावजूद उसको उसके घर से रेस्क्यू करवा लिया गया। लड़की को आरकेपुरम थाने लाया गया। लड़की बहुत डरी हुई थी, उसने बताया कि उसका असली नाम कुछ और है, उसने ज्योति नाम केवल फोन करने के लिए इस्तेमाल किया था। 13 वर्षीय लड़की ने बताया कि वह मूलत: कर्नाटक से है। उसके माता पिता की मृत्यु हो चुकी है, इसलिए वह यहां पर अपने नाना, नानी और मामा के साथ रहती है। कुछ समय पहले उसको पता चला कि उसके मामा उसको 19 अप्रैल को कर्नाटक ले जाने की योजना बना रहे हैं ताकि वह उसकी शादी अपनी जान-पहचान के एक व्यक्ति से करा सकें, जो कि उम्र में लड़की से बहुत बड़ा है। उसने बताया कि वह इस शादी के विरोध में थी और उसने इस बारे में कई बार अपने नाना-नानी को बताया। कहीं से कोई सहायता न मिलने पर उसने एक अजनबी व्यक्ति का फोन लेकर दिल्ली महिला आयोग की 181 हेल्पलाइन पर फोन किया। उसने अपने क्षेत्र में आयोग की मोबाइल हेल्पलाइन की गाड़ी पहले देखी थी और वह 181 हेल्पलाइन के बारे में पहले से जानती थी क्योंकि वहां की कुछ महिलाओं ने घरेलू हिंसा के मामलों में 181 पर फोन करके आयोग की सहायता मांगी थी। ज्योति ने बताया कि वह पांचवीं तक पढ़ी हुई है और उसको आगे भी पढ़ाई करनी है। लड़की को मेडिकल जांच के बाद बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसको शेल्टर होम भेज दिया गया। पुलिस के अनुसार लड़की के बयान की जांच की जा रही है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल ने कहा, “यह बहुत सराहनीय है कि लड़की ने अपने परिवार से लड़ने और आयोग की 181 हेल्पलाइन पर फोन करने में इतनी हिम्मत दिखाई। आयोग 181 महिला हेल्पलाइन 24 घंटे महिलाओं और लड़कियों की सहायता करने के लिए काम कर रहा है। हम यह भी सुनिश्चित करेंगे कि लड़की के रिश्तेदारों पर उसकी जबर्दस्ती शादी कराने के लिए एफआईआर दर्ज हो।” हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी शर्मा /दधिबल
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image