Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, अप्रैल 21, 2019 | समय 14:03 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

दंगा भड़काने के मामले में आप विधायक प्रकाश जारवाल पर एक लाख रुपये जुर्माना

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 5 2019 3:09PM
दंगा भड़काने के मामले में आप विधायक प्रकाश जारवाल पर एक लाख रुपये जुर्माना
नई दिल्ली, 05 अप्रैल (हि.स.) । दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने 2013 में दंगा भड़काने के लिए लोगों को उकसाने, पुलिस वालों की पिटाई और उपद्रव करने के मामले में आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल पर एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने इस मामले में दो अन्य अभियुक्तों सलीम और धर्म प्रकाश पर दस-दस हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। पिछले 19 फरवरी को कोर्ट ने तीनों को दोषी करार दिया था। घटना 30 अगस्त, 2013 की एमबी रोड पर वायु सेनाबाद के निकट की है। उस घटना में उग्र भीड़ द्वारा कुछ पुलिसवालों पर हमला किया गया था और सरकारी वाहनों को नुकसान पहुंचाया गया था। प्रकाश जारवाल, सलीम और धर्म प्रकाश पर आरोप है कि इन लोगों ने पुलिस वालों पर हमला करने के लिए लोगों को उकसाया था। शिकायत के मुताबिक घटना वाले दिन शाम को छह बजे पुलिस को सूचना मिली की तिगरी, एमबी रोड पर करीब सौ लोगों ने रास्ता जाम कर दिया और वाहनों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इस भीड़ एक हत्या के मामले में पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए रोड पर जाम लगा दिया था। घटना की सूचना मिलने पर जब पुलिस मौके पर पहुंची तो वहां ढाई-तीन सौ लोगों को लाठी डंडों के साथ देखा। उसमें से कुछ लोग भीड़ को हिंसा के लिए भड़का रहे थे। पुलिस उन्हें बार-बार समझाने का प्रयास कर रही थी। इतने में कुछ लोगों ने रोड पर खड़े वाहनों पर पत्थर चलाना शुरु कर दिया, जिससे एक डीटीसी की बस का शीशा टूट गया । लोगों की भीड़ ने पुलिस बैरिकेड तोड़ दिये और सरकारी मोटरसाइकिल को क्षतिग्रस्त कर दिया। जब पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए समझाया तो भीड़ और उग्र हो गई और पुलिस वालों पर हमला कर दिया। इसमें कुछ पुलिसकर्मियों को चोटें आईं और उनके कपड़े फटे। इस घटना में अभियोजन पक्ष ने 16 गवाहों को पेश किया। कोर्ट में तीनों अभियुक्तों ने अपने को निर्दोष बताया। कोर्ट में प्रकाश जारवाल ने बताया कि वो घटना वाले दिन घटनास्थल पर मौजूद नहीं थे। उस समय वे तिगड़ी में अपने दफ्तर में लोगों की समस्याएं सुन रहे थे। हालांकि कोर्ट ने उनके द्वारा पेश गवाहों को खारिज करते हुए उन्हें दोषी करार दिया। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/दधिबल
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image