Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, अप्रैल 21, 2019 | समय 15:51 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

‘भक्ति के तीन स्वर : कबीर, मीरा और सूर’ पुस्तक का लोकार्पण

By HindusthanSamachar | Publish Date: Mar 27 2019 7:18PM
‘भक्ति के तीन स्वर : कबीर, मीरा और सूर’ पुस्तक का लोकार्पण
नई दिल्ली, 27 मार्च (हि.स.)। राजकमल प्रकाशन द्वारा बुधवार को यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के दिल्ली केंद्र पर जॉन स्ट्रैटन हॉली की किताब ''भक्ति के तीन स्वर'' का विमोचन किया गया। इस अवसर पर जॉन स्ट्रैटन हॉली ने अपने पुस्तक के बारे में कहा कि मैं सबसे पहले सूरदास पर काम करना चाहता था लेकिन जब मैं पुरुषोत्तम अग्रवाल के सम्पर्क में आया तब मेरे अंदर मीरा और कबीर के बारे में जाने की उत्सुकता बढ़ी और मैंने इसके लिए काम करना शुरू किया। आज इसका परिणाम आपके सामने है। इसके लिए मैं राजकमल प्रकाशन और पुरुषोत्तम अग्रवाल को धन्यवाद देता हूं। आलोचक पुरुषोत्तम अग्रवाल ने कहा कि जब हमने भक्त एक शृंखला लाने के बारे में सोचा तो मेरी यही शर्त थी कि यह काम पांडुलिपियों के आधार पर होगा। यह किताब बहुत ही महत्वपूर्ण और विचारोत्तेजक है। यह किताब बहुत ही गम्भीर परिप्रेक्ष्य रखती है। यह पुस्तक समकालीन इतिहास के रूप में समृद्ध करेगी। उल्लेखनीय है की जॉन स्ट्रैटन हॉली किताब ''भक्ति के तीन स्वर : मीरा, सूर, कबीर'' की मूल कृति थ्री भक्ति वॉयसेस: मीराबाई, सूरदास एंड कबीर इन देयर टाइम्स एंड आवर्स'' का राजकमल प्रकाशन समूह के लिए अनुवाद अशोक कुमार ने किया है। ''भक्ति के तीन स्वर'' आलोचक पुरुषोत्तम अग्रवाल के सम्पादन में राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित होने वाली पुस्तक शृंखला ''भक्ति मीमांसा'' में तीसरी किताब है। इस शृंखला में पहले प्रकाशित दो किताबें हैं : ''निर्गुण संतों के स्वप्न'', ''रामचरित मानस; पाठ : लीला : चित्र : संगीत।’ हिन्दुस्थान समाचार/ सुभाषिनी /दधिबल
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image