Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, मार्च 22, 2019 | समय 16:05 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

धारावाहिक से प्रभावित होकर कारोबारी से बदमाशों ने मांगी 30 लाख की रंगदारी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Feb 7 2019 6:25PM
धारावाहिक से प्रभावित होकर कारोबारी से बदमाशों ने मांगी 30 लाख की रंगदारी
नई दिल्ली, 07 फरवरी (हि.स.)। दक्षिण-पूर्व दिल्ली के जैतपुर इलाके में टीवी सीरियल सावधान इंडिया और क्राइम पेट्रोल से प्रभावित होकर तीन लड़कों ने कारोबारी से 30 लाख रुपये की रंगदारी मांग डाली। रुपये न देने पर कारोबारी व उसके बेटे को जान से मारने की धमकी दी गई। पुलिस ने मामले को सुलझाते हुए तीनों युवकों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपितों की पहचान मीठापुर निवासी विजेंद्र सिंह (22), जैतपुर निवासी रितिक श्रीवास्तव (19) और पल्ला, फरीदाबाद निवासी अमित कुमार यादव (23) के रूप में हुई है। तीनों आपस में दोस्त हैं। इनमें दो युवक रितिक और विजेंद्र पीडि़त कारोबारी के पड़ोसी हैं। पुलिस ने आरोपियों के पास से वारदात में इस्तेमाल बाइक भी बरामद कर ली है। दक्षिण-पूर्व जिले के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त घनश्याम बंसल के अनुसार जैतपुर निवासी सुरेश कुमार (45) ने 30 जनवरी को 30 लाख रुपये रंगदारी मांगे जाने की शिकायत जैतपुर थाने में दी थी। पीडि़त ने बताया कि उनका एक्सपोर्ट सरप्लस गारमेंट्स का कारोबार है। घटना वाले दिन वह पल्ला, फरीदाबाद आए थे। इसी दौरान दो युवक उनकी कार के पास पहुंचे। बदमाशों ने उनकी कार का शीशा तोड़ दिया और फरार हो गए। अभी वह कुछ समझ पाते कि उनके मोबाइल पर एक अज्ञात नंबर से कॉल आई। कॉलर ने सुरेश को धमकाते हुए 30 लाख रुपये रंगदारी की मांग की। रुपये न देने पर उन्हें और उनके बेटे को जान से मारने की धमकी दी गई। पुलिस ने तुरंत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी। पुलिस टीम ने सीसीटीवी फुटेज व टेक्नीकल सर्विलांस के आधार पर तीन फरवरी को विजेंद्र, रितिक और अमित को जैतपुर से दबोच लिया। शुरूआत में आरोपित वारदात में अपना हाथ होने की बात से इंकार करते रहे, लेकिन बाद में तीनों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। आरोपितों से पूछताछ के बाद वारदात में इस्तेमाल बाइक को बरामद की गई। ऐसे बनाई गई रंगदारी मांगने की योजना तीनों युवकों ने बताया कि वह गहरे दोस्त हैं, तीनों को रुपयों की जरूरत थी। क्राइम पेट्रोल व सावधान इंडिया देखकर इन लोगों ने कारोबारी की पहचान कर उससे रंगदारी की योजना बनाई। आरोपितों ने किसी तरह पहले चोरी के मोबाइल व एक सिम का जुगाड़ किया। बाद में कारोबारी की पत्नी का मोबाइल नंबर का इंतजाम कर उसे कॉल कर उसके पति का नंबर एलआईसी एजेंट बनकर लिया। पुलिस आरोपितों तक न पहुंचे, इसके लिए पलवल जाकर कॉल की गई। बाद में सिम तोड़कर फेंक दिया गया। इसके बाद रास्ते में मोबाइल को भी फेंक दिया गया, लेकिन इसके बाद भी आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बच नही पाए और पुलिस उन तक पहुंच गई। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी शर्मा
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image