Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, नवम्बर 20, 2018 | समय 10:52 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पानी नहीं तो वोट नहीं, लोहा खान क्षेत्र की महिलाएं चुनाव का करेंगी बहिष्कार

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 9 2018 10:08PM
पानी नहीं तो वोट नहीं, लोहा खान क्षेत्र की महिलाएं चुनाव का करेंगी बहिष्कार
रायपुर, 09 नवंबर (हि.स.)। रायगढ़ विधानसभा के पुसौर क्षेत्र के लोहा खान क्षेत्र की महिलाएं जनप्रतिनिधियों के खिलाफ लामबंद हो गई हैं। महिलाओं का आरोप है कि हमें पानी की बूंद-बूंद के लिए तरसना पड़ रहा है कहने को यहां पर 2 बोर हैं लेकिन दोनों बोर से पानी नहीं मिलता है। महिलाओं का कहना है कि हमारे गांव में न तो सड़क है, न ही उपचार की व्यवस्था। हमें बीमारी की हालात में दूसरे गांव में जाकर इलाज कराना पड़ता है। महिलाओं को नहाने धोने सहित खाने-पीने के लिए पानी की भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। लोहा खान गांव एनटीपीसी के ठीक पीछे स्थित है। दरअसल यहां पर एनटीपीसी को यहां पर विकास कार्य करना था जिसमें गांव की बुनियादी सुविधाएं पानी बिजली स्वास्थ्य सड़क पर काम करना था लेकिन न तो एनटीपीसी ग्रामीणों के लिए कुछ किया और न जनप्रतिनिधियों ने यहां पर ध्यान दिया। ऐसे में महिलाएं लामबंद हो गई हैं और उनका साफ कहना है कि हमारे घर के पुरुष लोग तो शराब और पैसे के लालच में आकर भले ही वोट दे दे, लेकिन हम वोट नहीं देंगे जब तक कि हमारे गांव में पेयजल की व्यवस्था ना हो जाए। हालांकि इस गांव में पानी के अलावा सड़क और बिजली तथा स्वास्थ्य की भी कोई समुचित व्यवस्था नहीं है। पूरा गांव अंधेरे में डूबा रहता है यहां की सबसे बड़ी समस्या पानी की है। लोग पानी की बूंद-बूंद के लिए तरस रहे हैं। गांव से 2 किलोमीटर दूर एक छोटे से डबरी में लोग नहाने धोने व निस्तारी का काम करते हैं। ऐसे में यहां की महिलाएं सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। महिलाओं का आरोप है कि कभी किसी जनप्रतिनिधि ने यहां पर आ कर उनकी समस्या की सुध नहीं ली। पुरुष भले चाहे जाकर वोट दे लेकिन हम महिलाएं जब तक पानी की व्यवस्था नहीं हो जाती तब तक वोट हरगिज नहीं देंगे। बताते चलें कि दूर-दराज के गांवों में मीट, चावल और शराब का प्रचलन जोरों पर हैं। जिसमें पुरुष वर्ग अधिक संख्या में भाग लेते हैं, लेकिन महिलाएं गिनी चुनी ही शामिल होती हैं। लेकिन लोहा खान की महिलाएं मूलभूत सुविधाओं से वंचित होने के कारण इस बार के चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। हिन्दुस्थान समाचार/चंद्र नारायण
image