Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, नवम्बर 16, 2018 | समय 13:24 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

बिल्हा विधानसभा सीट पर चढ़ा सियासी पारा

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 9 2018 10:06PM
बिल्हा विधानसभा सीट पर चढ़ा सियासी पारा
बिलासपुर,09 नवंबर (हिस.)। जिले की सात विधानसभा सीट में से बिल्हा सबसे महत्वपूर्ण प्रतिष्ठित सीट मानी गई है। बिल्हा बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक का चुनाव क्षेत्र है और प्रदेश की सबसे बड़ी विधानसभा में से एक है। खासियतों में से एक और खासियत यह है कि यह इकलौती ऐसी सीट है, जो दो जिलों के नक्शे में है। एक बिलासपुर और दूसरा मुंगेली जिला। फिर भी यहां विकास केवल कागजों में मिल सकता है। शिवनाथ और मनियारी नदी के किनारे बसे होने के बाद भी किसान पानी के लिए तरसते हैं। बिल्हा सीट बीते तीन चुनाव से भाजपा के धरमलाल कौशिक और कांग्रेस के सियाराम कौशिक की रणभूमि बनी हुई है। जिले में आमआदमी पार्टी ने अपना प्रत्याशी जसबीर सिंह को बनाया है। जसबीर बीजेपी सहित सभी पार्टी के उम्मीदवारों को कड़ी टक्कर देने का दावा कर रहे हैं। इस सीट में 2 लाख 66 हज़ार से ज्यादा मतदाता है, एक लाख से ज्यादा अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग से हैं और 1 लाख 40 हज़ार से ज्यादा पिछड़ा वर्ग के मतदाता हैं। यहां कुर्मी, लोधी और यादव का प्रतिनिधित्व है। वहीं ब्राह्मण और ठाकुर 7 प्रतिशत हैं। चुनावी पृष्ठभूमि की बात करें तो 1993 के चुनाव में कांग्रेस के अशोक राव से धरमलाल कौशिक हार गए थे। धरमलाल 1998 में अशोक राव को हराकर विधानसभा पहुंचे। 2003 के चुनाव में कांग्रेस ने धरमलाल के मुकाबले सियाराम को उतारा। सियाराम करीब साढ़े छह हजार मतों से जीत हासिल की। 2008 के चुनाव में फिर दोनों कौशिक आमने-सामने थे। इस बार धरमलाल ने करीब छह हजार मतों के अंतर से सियाराम को पटखनी दी। 2013 के चुनाव में बारी सियाराम की थी। ट्रेंड के सही साबित करते हुए वोटरों ने सियाराम को धरमलाल से करीब 10 हजार वोट अधिक दिया। फिलहाल विधानसभा में सियाराम इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। 2013 में टिकट दावेदारी में राजेन्द्र शुक्ला सबसे आगे थे, लेकिन कांग्रेस ने उनके नाम को छोड़कर सियाराम पर दांव खेला गया था, जो जीत में बदल गया। छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे) सुप्रीमो प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री अजीत से करीबी रिश्तों और जेसीसी (जे) पार्टी में सदस्यता के चलते इस बार कांग्रेस को नया चेहरा खोजना पड़ा और कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला को प्रत्याशी बनाया गया है। वहीं, कांग्रेस की जिला पंचायत सदस्य रहीं अंबालिका साहू ने विरोध दर्ज किया, लेकिन मानमनौव्वल के बाद पार्टी में वापस निष्ठा दिखा दी। वहीं, बीजेपी ने वर्तमान में पार्टी प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक को अपना अधिकृत प्रत्याशी बनाया है। जिसके बाद से बिल्हा विधानसभा में सियासी पारा चढ़ गया है। बीजेपी के धरमलाल और ​जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) से प्रत्याशी सियाराम कौशिक जनता से समर्थन के लिये घर-घर जाकर जनसंपर्क कर रहे हैं। अब देखना होगा इस विधानसभा सीट में कड़े सियासी संघर्ष के बाद किस पार्टी पर जनता अपना विश्वास जताती है। हिन्दुस्थान समाचार/उपेन्द्र/चंद्र नारायण
image