Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, दिसम्बर 13, 2018 | समय 04:00 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

साजा में निर्दलीय प्रत्याशी बसंत अग्रवाल बिगाड़ सकते हैं भाजपा-कांग्रेस का समीकरण

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 4 2018 12:41PM
साजा में निर्दलीय प्रत्याशी बसंत अग्रवाल बिगाड़ सकते हैं भाजपा-कांग्रेस का समीकरण
रायपुर, 04 नवम्बर (हि.स.)। साजा विधानसभा से भाजपा से लाभचंद बाफना व कांग्रेस से रविन्द्र चौबे के अलावा भाजपा से निष्कासित हुए युवा नेता बसन्त अग्रवाल निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं । बसन्त अग्रवाल के निर्दलीय मैदान में उतरने से भाजपा कांग्रेस दोनों ही दलों के प्रत्याशियों में हडकंप मचा हुआ है| स्थानीय व युवा नेतृत्व के मुद्दे को लेकर बसन्त अग्रवाल साजा विधानसभा की जनता से समर्थन मांग रहे हैं | बसन्त को क्षेत्र के युवाओं व महिलाओं का भारी समर्थन मिल रहा है जिससे यहाँ का चुनाव त्रिकोणीय संघर्ष का रूप ले चुका है । साजा विधानसभा का यह चुनाव बेहद ही दिलचस्प होने वाला है | साजा विधानसभा में वर्षो से जनता को परंपरागत भाजपा व कांग्रेस के बीच ही मुकाबला देखने को मिलता रहा है जिसमे भाजपा या कांग्रेस के प्रत्याशी ही जीतकर आते रहे हैं, मगर इस बार का चुनाव बसन्त अग्रवाल के कारण बेहद ही दिलचस्प होगा | स्थानीय होने के साथ-साथ युवा नेता बसन्त अग्रवाल साजा क्षेत्र में पिछले कई वर्षो से सक्रिय रहे हैं, जिसके चलते क्षेत्र की जनता के बीच लोकप्रिय होने के साथ-साथ युवाओ में अच्छी पैठ भी बनाये हुए है जिसका लाभ इस चुनाव में बसन्त को मिलने की संभावना जताई जा रही है| बसन्त अग्रवाल क्षेत्र के विकास के साथ ही बेरोजगार युवाओ को रोजगार, किसानो-मजदूरो, महिलाओ के जीवन स्तर में सुधार को लेकर कार्य करने की बात कर रहे हैं | शक्ति प्रदर्शन से राजनीतिक दलों के फूले हाथ-पाँव साजा विधानसभा के बसन्त समर्थकों व क्षेत्रवासियों द्वारा लगातार बसन्त अग्रवाल को नेतृत्व करने पर जोर दिया जाता रहा जिसके बाद ही बसन्त ने चुनाव लड़ने का मन बनाया| समर्थकों के साथ नामांकन रैली के समय शक्ति प्रदर्शन भी किया, लगभग 20 से 25 हज़ार समर्थकों के साथ बसन्त अग्रवाल ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया | बसन्त के शक्ति प्रदर्शन के बाद से ही भाजपा कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक दलों में हडकंप मचा हुआ है। हिंदुस्थान समाचार/गायत्री /शंकर
image