Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, अगस्त 18, 2018 | समय 20:27 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

सहारा मामला : एंबी वैली को एक बार में बेचना असंभव : लिक्विडेटर

By HindusthanSamachar | Publish Date: Feb 7 2018 9:14PM
सहारा मामला : एंबी वैली को एक बार में बेचना असंभव : लिक्विडेटर

नई दिल्ली, (हि.स.)। सहारा समूह की प्रमुख संपत्ति एंबी वैली को बेचने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त लिक्विडेटर ने आज सुप्रीम कोर्ट को बताया कि निविदा का उसका दूसरा प्रयास विफल हो गया। लिक्विडेटर ने कहा कि एंबी वैली को एक बार में बेचना असंभव है। लिक्विडेटर ने कहा कि महिंद्रा और पिरामल समूह ने एंबी वैली के कुछ हिस्सों को खरीदने की इच्छा जताई है। उसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने लिक्विडेटर और रिसीवर को एंबी वैली की बेचने योग्य संपत्ति को बेचने की अनुमति दे दी है। इन संपत्तियों में इंटरनेशनल स्कूल, गोल्फ कोर्स, होटल और रेस्टोरेंट शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट ने लिक्विडेटर और रिसीवर को इन संपत्तियों को बेचने के लिए निविदा की प्रक्रिया 12 अप्रैल तक पूरी करने का निर्देश दिया ।

 
पिछले 23 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह की प्रमुख संपत्ति एंबी वैली के लिए एक रिसीवर नियुक्त किया था। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने रिसीवर को आदेश दिया था कि एंबी वैली का कोई अतिक्रमण नहीं हो और नीलामी प्रक्रिया में तेजी लाई जाए। सुप्रीम कोर्ट ने बांबे हाईकोर्ट के आफिशियल रिसीवर को एंबी वैली की नये सिरे से नीलामी का आदेश दिया था। 
 
सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह के मुखिया सुब्रत राय को निर्देश दिया था कि वे नीलामी प्रक्रिया में कोई हस्तक्षेप नहीं करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर सुब्रत राय ने नीलामी प्रक्रिया में हस्तक्षेप करने की कोशिश की तो उन्हें जेल भेज दिया जाएगा। 
 
पिछली सुनवाई के दौरान बांबे हाईकोर्ट के आफिशियल लिक्विडेटर ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सहारा समूह नीलामी प्रक्रिया में बाधाएं खड़ी कर रहा है। सेबी ने कहा था कि एंबी वैली की नीलामी असफल रही है क्योंकि कोई भी निविदाकर्ता खरीदने नहीं पहुंचा। सहारा ने एंबी वैली की नीलामी से ठीक पहले उसमें ताला लगा दिया और पुणे पुलिस को इसकी सूचना दी।
 
सेबी ने 10 अक्टूबर को दायर अपनी याचिका में कहा था कि सहारा एंबी वैली प्रोजेक्ट की नीलामी में बाधाएं खड़ी कर रहा है। सेबी ने अपनी याचिका में कहा है कि एंबी वैली लिमिटेड ने नीलामी से कुछ दिन पहले ही ताला लगा दिया और पुलिस को लिखा की पुलिस एंबी वैली की सुरक्षा करे क्योंकि इसके लिए कंपनी के पास पैसे नहीं हैं। इसके बाद पुलिस ने एंबी वैली की सुरक्षा का जिम्मा संभाल लिया है। इसकी वजह से नीलामी प्रक्रिया में रुकावट आ गई है।
 
 
 
image