Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, अप्रैल 26, 2019 | समय 21:55 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

वैदिक काल में भी महिलाएं हमेशा पूजनीय थीं- नीलम मिश्रा

By HindusthanSamachar | Publish Date: Mar 8 2019 8:40PM
वैदिक काल में भी महिलाएं हमेशा पूजनीय थीं- नीलम मिश्रा
इटानगर, 08 मार्च (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश की पहली महिला नीलम मिश्रा ने शुक्रवार को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लिया। कार्यक्रम का आयोजन अरुणाचल प्रदेश राज्य महिला आयोग और राज्य महिला एवं बाल विकाश विभाग द्वारा किया गया था। कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए नीलम मिश्रा प्रदेश की महिलाओं को अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रत्येक महिला समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। उनमें से प्रत्येक परिवार, समाज, राज्य और राष्ट्र के लिए महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि वैदिक काल में भी महिलाएं हमेशा पूजनीय थीं। लेकिन, कई आक्रमणों के कारण उन्होंने अपना दर्जा खो दिया और घर की चारदीवारी में सीमित हो गईं। इस संबंध में भारत ने एक बड़ी छलांग लगाई है। महिला सशक्तीकरण आंदोलन या बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और दुलारी कन्या योजना जैसी योजनाएं क्रांतिकारी पहल है। यह दुनिया में अपनी तरह की पहली पहल है। उन्होंने महिलाओं को आगे बढ़ने और सशक्त बनाने के लिए जीवन में उनके सकारात्मक पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने का आह्वान किया। उन्होंने महिलाओं से अपनी क्षमता का दोहन करने और अपनी सकारात्मक विशेषताओं को मजबूत करने का आह्वान किया। उन्होंने महिलाओं से स्वयं को मजबूत करने की अपील करते हुए कहा कि उनके पास ऐसा करने की पूरी क्षमता है। मिश्रा ने कहा कि भावी पीढ़ी को आकार देना महिलाओं के विचारों और दृष्टिकोण, विशेषकर माताओं पर निर्भर करता है। यह मां ही है जो बच्चे में बदलाव ला सकती है। उन्होंने महिलाओं को हर बच्चे और लड़की दोनों में अनुशासन और स्वावलंबन की प्रवृत्ति स्थापित करने के लिए प्रेरित किया। हिन्दुस्थान समाचार/ तागू / अरविंद
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image