Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, अप्रैल 23, 2019 | समय 05:39 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

रविशंकर के व्यवहार पर आत्मबोधानंद बोले- उनका व्यवहार इस कदर नीचे गिर जाएगा आश्चर्य

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 15 2019 7:49PM
रविशंकर के व्यवहार पर आत्मबोधानंद बोले- उनका व्यवहार इस कदर नीचे गिर जाएगा आश्चर्य
हरिद्वार, 15 अप्रैल (हि.स.)। मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने भी सोमवार को श्रीश्री रविशंकर पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि जो व्यक्ति खुद को संत कहता है उसका व्यवहार इस कदर नीचे गिर जाएगा, ये वाकई में आश्चर्य की बात है। सोमवार को मातृ सदन ने रविशंकर के लिए एक खुला पत्र जारी किया है। मातृ सदन ने श्रीश्री की मंशा पर सवाल खड़े करते हुए उन पर कई आरोप लगाए हैं। जारी किए गए पत्र में 15 बिंदुओं पर अपनी बात कही है। इसमें रविशंकर के मातृ सदन पहुंचने से लेकर उनकी बातों और आचरण को लेकर कई तरह के सवाल खड़े किए गए हैं। पिछले 174 दिनों से अनशन पर बैठे मातृ सदन के ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद का कहना है कि जब रविशंकर उनसे मिलने आये तो उन्हें अपनी बात रखने का मौका नहीं दिया गया। इसके कारण वे उनके नाम खुला पत्र लिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि श्रीश्री बार-बार उनसे अनशन खत्म करने की बात कह रहे थे। साथ ही रविशंकर कह रहे थे कि सरकार लगातार गंगा के लिए काम कर रही है। आत्मबोधानंद ने कहा कि रविशंकर उनसे मिलकर केवल सरकार का झूठा महिमामंडन कर रहे थे। उन्होंने बताया कि रविशंकर सरकार के मैसेंजर बनकर उनसे मिलने आये थे। आत्माबोधानंद ने कहा कि अगर सरकार वाकई में गंगा की स्वच्छता की दिशा में काम कर रही होती तो उन्हें अनशन पर नहीं बैठना पड़ता। वहीं मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने भी श्रीश्री पर गंभीर आरोप लगाये हैं। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति खुद को संत कहता है उसका व्यवहार इस कदर नीचे गिर जाए ये वाकई में आश्चर्य की बात है। उन्होंने कहा कि किसी संत की तपस्या को तोड़ने का अधिकार किसी को नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत/राजेश/पवन
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image