Hindusthan Samachar
Banner 2 मंगलवार, अप्रैल 23, 2019 | समय 05:26 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

आरोपों को एम्स प्रशासन ने किया खारिज

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 15 2019 7:45PM
आरोपों को एम्स प्रशासन ने किया  खारिज
ऋषिकेश, 15 अप्रैल (हि.स.)। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश के खिलाफ धरना प्रदर्शन करने वालों द्वारा लगाए जा रहे तमाम आरोपों को एम्स प्रशासन ने सिरे से खारिज कर दिया है। सोमवार को एम्स प्रशासन ने आंदोलनरत लोगों द्वारा की जा रही मांगों को भी तथ्यहीन व गलत करार दिया है। संस्थान के विरुद्ध जारी आंदोलन के मद्देनजर एम्स प्रशासन द्वारा बताया गया कि हटाए गए आउटसोर्स कर्मचारी एम्स संस्थान से सिर्फ उत्तराखंड के लोगों को हटाए जाने की बात कह रहे हैं, जबकि ऐसा नहीं हैं। इनमें कई लोग गैर उत्तराखंड से भी हैं, इनमें मुजफ्फरनगर के ललित कुमार, बिजनौर की पूनम सैनी, मुरादाबाद के सोनू, सहारनपुर की मनीषा आदि शामिल हैं। एम्स केंद्रीय संस्थान है, इस लिहाज से इसमें 70 प्रतिशत आरक्षण उत्तराखंड मूल के लोगों के लिए नहीं हो सकता, लिहाजा इसके लिए पॉलिसी केंद्र सरकार ही बना सकती हैं। एम्स प्रशासन का तर्क है कि संस्थान में वर्तमान में कार्यरत कर्मचारियों में लोकल कर्मचारी 70 प्रतिशत से अधिक हैं। उन्होंने बताया कि एम्स प्रशासन किसी भी अनैतिक दबाव में आकर मनमुताबिक भर्ती नहीं कर सकती। बताया गया कि हटाए गए अस्थायी कर्मियों को वापस लेने की मांग को लेकर सोमवार को जो बुजुर्ग व्यक्ति संस्थान की छत पर चढ़े हैं, वह एम्स में अपनी बेटियों की नियुक्ति की मांग कर रहे हैं, जबकि इनकी दोनों बेटियां एम्स, ऋषिकेश की परमानेंट नर्सिंग पदों की परीक्षा में हर बार बैठी हैं। कभी परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर पायीं। एम्स प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि जो लोग नर्सिंग व अटेंडेंट्स पदों से हटाए गए हैं वह पूर्णरूप से प्राइवेट कम्पनी के अस्थायी कर्मचारी थे। हिन्दुस्थान समाचार /विक्रम/राजेश/पवन
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image