Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, अप्रैल 19, 2019 | समय 03:49 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

सुवर्णप्राशन शिविर ऋषिकुल परिसर में 13 को

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 10 2019 8:05PM
सुवर्णप्राशन शिविर ऋषिकुल परिसर में 13 को
हरिद्वार, 10 अप्रैल (हि.स.)। बच्चों के शारीरिक व मानासिक स्वास्थ्य को बढ़ाने एवं नाना प्रकार के रोगों से सुरक्षा देने के लिए आयुर्वेद की प्राचीन आचार्यों ने विश्व को सुवर्णप्राशन अवलेह के रूप में एक अनूठा उपहार दिया है। सुवर्णप्राशन बुद्वि अग्नि व बल को बढाने वाला, कल्याणकारक, पुष्यकारक वृष्य, वर्णय तथा ग्रहबाधा नाशक है। यह कहना है ऋषिकुल आयुर्वेद कालेज की प्रो. रीना पण्डेय का। सुवर्णप्राशन के संबंध में जानकारी देते हुए पाण्डेय ने बताया कि सुवर्णप्राशन अवलेह आयुर्वेद की कुछ प्रभावशाली रसायन औषधियों में से एक है, जो विशेष विधि से तैयार औषधि रसायन है। बताया कि सुवर्णप्राशन अवलेह बच्चों के क्षीण रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढाता है व बच्चों में होने वाले संक्रमण व अनुर्जता के विरुद्ध सुरक्षा देता है। उन्होंने बताया कि इस बार पुष्य नक्षत्र 13 अप्रैल को होने के कारण चिकित्सालय सुवर्णप्राशन शून्य से 16 वर्ष आयु के बच्चों को दिया जाएगा। बताया कि इसके सेवन से कोई कुप्रभाव शरीर पर नहीं होता है। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत/अमर/शंकर
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image