Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, अप्रैल 18, 2019 | समय 20:40 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

उच्च शिक्षा में पाठयकर्मों पर अधिक कार्य करने की जरूरत: राज्यपाल मौर्य

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 9 2019 5:39PM
उच्च शिक्षा में पाठयकर्मों पर अधिक कार्य करने की जरूरत: राज्यपाल मौर्य
रुड़की, 09 अप्रैल (हि.स.)। उत्तराखण्ड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने मंगलवार को कहा कि उच्च शिक्षा आर्थिक व सामाजिक विकास की धुरी है। इसलिए उच्च शिक्षा में आज पाठयकर्मों एवं प्रचलित पद्धतियों से भी अधिक कार्य करने की जरूरत है। हमारे देश में ऐसे कई महान वैज्ञानिक, इंजीनियर और शिक्षाविद् हुए हैं। इन्होंने अपनी भलाई से पहले समाज और राष्ट्र की भलाई को आगे रखा। काॅलेज ऑफ इंजीनियरिंग रुड़की के दीक्षांत समारोह में मंगलवार को राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने प्रतिभाग किया। उन्होंने रुड़की को भारत की ‘‘इंजीनियरिंग कैपिटल’’ बताते हुए कहा कि यहां से इंजीनियरिंग के कई बड़े कीर्तिमान हैं। भारत ही नहीं बल्कि एशिया का सबसे पहला इंजीनियरिंग काॅलेज खोला गया जो वर्तमान में आईआईटी रुड़की के नाम से विश्व विख्यात है। शिक्षा देश की माटी के काम भी आनी चाहिए राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि इंजीनियरिंग और शिक्षा का मानव समाज तथा राष्ट्र की भलाई के लिये कहा कि शिक्षा और शोध कार्य सदैव मानवता के कल्याण के लिए होने चाहिए। शिक्षा में मानवीय मूल्यों तथा सांस्कृतिक चेतना का समावेश अवश्य होना चाहिए। विद्यार्थियों को सामाजिक सरोकारों से जोड़ने के लिए काॅलेज को आसपास के गांवो में शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं अन्य जागरूकता के कार्यक्रम चलाने चाहिए। राज्यपाल ने विद्यार्थियों से कहा कि अपनी बुद्धिमत्ता और शिक्षा का उपयोग उत्तराखण्ड की स्थानीय समस्याएं दूर करने में भी करें। उन्होंने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य सिर्फ नौकरी पाना नहीं है, बल्कि विद्यार्थियों की शिक्षा देश की माटी के काम भी आनी चाहिए। महिलाओं को मिले बराबरी का अधिकार विद्यार्थियों को परिवर्तनों के साथ सफलतापूर्वक कदम से कदम मिलाकर चलने का सुझाव देते हुए राज्यपाल मौर्य ने कहा कि वर्तमान में तकनीकी के क्षेत्र में तेजी से परिवर्तन हो रहे है। कृत्रिम बुद्धिमता (आर्टीफीशियल इंटेलिजेंस) तथा यूजर फ्रैंडली तकनीकि हर क्षेत्र में अपनी जगह बना रही है। अब ‘इण्टरनेट ऑफ थिंग्स’ का जमाना है। महिला सशक्तिकरण पर बल देते हुए राज्यपाल ने कहा कि काॅलेज कैम्पस से लेकर कम्पनियों और दफ्तरों में हर जगह महिलाओं को बराबरी का अधिकार होना चाहिए। महिलाओं को डिसीजन मेकिंग में भी समानता का अधिकार मिलना चाहिए। इन छात्रों ने मारी बाजी... राज्यपाल मौर्य ने कहा कि युवा वर्ग देश की ताकत है। इस वर्ग की सृजनशीलता ही देश को विश्व की प्रगति की प्रथम पंक्ति में खड़ा कर सकती है। इसलिए राष्ट्र का भविष्य आज के युवाओं पर एवं उनकी दूरदर्शी सोच पर ही निर्भर करता है। आज हमारे देश को उच्च स्तरीय शोध एवं खोज की सबसे बड़ी जरूरत है। समारोह में 721 छात्र-छात्राओं को स्नातक व परास्नातक की उपाधियां प्रदान की गयी। गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों में शाहरुख खान (एईआई), रूहिना अंजुम (सिविल), पूर्वा नष्वा (सीएस), वर्षा अग्रवाल (आईटी), कार्तिक आहूजा (ईएन), विभूति चैहान (ईटी), विशाल नरूला (एमई), सताक्षी जिंदल (एमबीए), दीपक सिंह राणा (एमसीए) रहे। सिल्वर मेडल प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों में नंदन सिंह (एईआई), गौतम नरूला (सिविल), रिद्हम अरोरा (सीएस), रजत गोयल (आईटी), शालिनी बडोनी (ईएन), मेधा पाण्डेय (ईटी), राहूल कुमार (एमई), साक्षी मित्तल (एमबीए) एवं नेहा बुतोला (एमसीए) रहीं। काॅलेज ऑफ इंजीनियरिंग रुड़की के अध्यक्ष जेसी जैन, महानिदेशक कोर डाॅ एसपी गुप्ता, उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय देहरादून की रजिस्ट्रार डाॅ अनीता रावत, काॅलेज की वाइस चेयरपर्सन सुनीता जैन ने भी दीक्षांत समारोह को सम्बोधित किया। हिन्दुस्थान समाचार/सचिन/राजेश/पवन
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image