Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, अप्रैल 18, 2019 | समय 19:48 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

आध्यात्मिक उन्नति से मिलती है शांति : प्रणव पंड्या

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 8 2019 8:16PM
आध्यात्मिक उन्नति से मिलती है शांति : प्रणव पंड्या
हरिद्वार, 08 अप्रैल (हि.स.)। देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ प्रणव पंड्या ने सोमवार को कहा कि अध्यात्म का विज्ञान से गहरा सम्बन्ध है। अध्यात्म के सूत्र विज्ञान के सभी सूत्रों को जोड़ते हैं। अध्यात्म चेतना के परिष्कार व चित्त की शुद्धि का नाम है। जिस किसी के जीवन में आध्यात्मिक उन्नति होती है, उन्हें शांति और संतुष्टि की प्राप्ति होती है। पण्ड्या सोमवार को देवसंस्कृति विवि के मृत्युंजय सभागार में आयोजित विशेष व्याख्यानमाला में उपस्थित युवाओं का मार्गदर्शन कर रहे थे। कहा कि अपने भीतर के चेतनतत्व को जानना और उसके दर्शन करना सच्चा अध्यात्म है। जो सिद्धांत विज्ञान में लागू होता है वही अध्यात्म में भी लागू होता है। संसार में विज्ञान के विकास से वैभव एवं विभूति बढ़ती है, तो वहीं अध्यात्म के विकास से जीवन में सुख-शांति, सौमनस्य एवं सौहार्द्र बढ़ता है। उन्होंने कहा कि प्रकृति और परमात्मा की तरह विज्ञान और अध्यात्म के बीच भी गहरा संबंध है। यह संबंध जितना सुदृढ़ एवं स्थिर होगा, मानवीय जीवन उतना ही सुखी, शांत और सुविकसित होता चला जाएगा। कहा कि अध्यात्म जीवन का शीर्षासन है। प्रणव पंड्या ने कहा कि अध्यात्म अहंकार के विपरीत है तथा ध्यान अध्यात्म की उच्चकोटि है। अध्यात्म वह कर्म सिद्धांत है, इसमें मनुष्य अपने कर्मों द्वारा अपने भविष्य का निर्माण करता है। आत्मा का परमात्मा के सम्बन्ध में चिंतन-मनन करना अध्यात्म है। इस अवसर पर कुलपति शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या, कुलसचिव बलदाऊ देवांगन, शांतिकुंज के कार्यकर्ता, देश-विदेश से नवरात्रि साधना करने आए साधकगण सहित समस्त विभागाध्यक्ष, प्रोफेसर्स एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत/अमर/पवन
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image