Hindusthan Samachar
Banner 2 गुरुवार, अप्रैल 18, 2019 | समय 20:54 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पंचेश्वर बांध पर भाजपा और कांग्रेस का सियासी दांव

By HindusthanSamachar | Publish Date: Apr 4 2019 12:42PM
पंचेश्वर बांध पर भाजपा और कांग्रेस का सियासी दांव
अल्मोड़ा, 04 अप्रैल (हि.स.)। कांग्रेस अल्मोड़ा लोकसभा के चुनावी समर में पिथौरागढ़-पंचेश्वर बांध से होने वाले विस्थापन को चुनावी मुद्दा बनाने में जुटी है तो वहीं भाजपा भी कांग्रेस को आड़े हाथों लेने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। दोनों राष्ट्रीय दल एक दूसरे पर सियासी वार कर लोकसभा चुनाव में अपनी बढ़त बनाने में लगे हुए हैं। पंचेश्वर बांध अल्मोड़ा लोकसभा के सबसे संवेदनशील मुद्दों में से एक है। इस बांध की विशालकाय 116 किलोमीटर की झील खुद में बहुत कुछ डूबो देगी। विस्थापन के साथ ही पर्यावरण से जुड़े अहम सवालों का अभी सही जवाब नहीं मिल पाया है। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस द्वारा उठाए जा रहे इस मुद्दे पर, भाजपा ने भी सवाल पूछा है। भाजपा ने कांग्रेस से ही सीधा सवाल किया है कि वे पहले ये साफ करें कि राष्ट्रीय स्तर पर बांध को लेकर उनका आखिर स्टैंड क्या है? अल्मोड़ा लोकसभा के चार में से तीन जिले सीधे तौर पर पंचेश्वर दुनिया के सबसे बड़े बांधों में शुमार है। पिथौरागढ़ में जहां इस बांध के बनने से 87 गांव जलसमाधि ले लेंगे वहीं अल्मोड़ा के 21 और चम्पावत के 26 गांव भी इसी के जद में आ रहे हैं। कुल मिलाकर तीनों जिलों के 30 हजार से अधिक परिवार बांध बनने पर विस्थापित हो जाएंगे। ऐसे में जब चुनावी माहौल अपने चरम पर है तो कांग्रेस भी इस मुद्दे की तपिश को बढ़ाने में कोई कोरकसर नहीं छोड़ रही है। कांग्रेस उम्मीदवार प्रदीप टम्टा का कहना है कि 32 हजार परिवार डूब जाएंगे, जबकि पांच लाख लोग उजड़ जाएंगे। ऐसे मेंं विस्थापितों को बसाने के लिए राज्य सरकार की क्या योजना है। दूसरी ओर बीजेपी के प्रदेश प्रवक्त सुरेश जोशी ने कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए कहा है कि घोषणा पत्र में पंचेश्वर बांध नहीं बनाने का विचार है। अगर है तो कांग्रेस को उस पर अपना मत स्पष्ट करना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश/बच्चन
लोकप्रिय खबरें
फोटो और वीडियो गैलरी
image