Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, नवम्बर 17, 2018 | समय 14:30 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

योगी सरकार के फैसले से चीनी उत्पादन में नम्बर-1 बना यूपी— शलभ मणि त्रिपाठी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 20 2018 5:28PM
योगी सरकार के फैसले से चीनी उत्पादन में नम्बर-1 बना यूपी— शलभ मणि त्रिपाठी
लखनऊ, 20 अक्टूबर(हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने शनिवार को कहा है कि योगी सरकार गन्ना किसानों के हित में शानदार फैसले का नतीजा है कि महज 18 म​हीनों में चीनी उत्पादन के क्षेत्र में यूपी नम्बर-1 बना है। उत्तर प्रदेश सरकार ने बंद पड़ी तमाम चीनी मिलों को दुबारा शुरू कराने के साथ ही तमाम पुरानी मिलों की क्षमता बढ़ाने का भी काम किया है। योगी सरकार के महत्वपूर्ण फैसले में चौधरी चरण सिंह के कर्मक्षेत्र रमाला की शुगर मिल भी शामिल है। इस शुगर मिल की क्षमता बढ़ाने और इसे अत्याधुनिक बनाने की मांग पिछले 35 साल से किसान भाई कर रहे थे, परंतु योगी आदित्यनाथ की सरकार ने इसे संवेदनशीलता से लेते हुए लगभग 400 करोड़ रूपए देकर शुगर मिल का कायाकल्प कराया है और चौधरी चरण सिंह की कर्मभूमि को बड़ा तोहफा दिया है। शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में योगी आदित्यनाथ और गन्ना मंत्री सुरेश राणा की कोशिशों का ही नतीजा है कि यूपी ने इस बार देश में चीनी के कुल उत्पादन की 38 फीसदी चीनी का उत्पादन कर रिकार्ड कायम किया है। उत्तर प्रदेश ने इस बार अकेले 120 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है जो पहले कभी नहीं हुआ। इतना ही नहीं, योगी आदित्यनाथ की सरकार ने अखिलेश सरकार के दौरान बकाया गन्ना भुगतान तो किया ही, इस सत्र में भी गन्ना किसानों को तेजी से भुगतान किया जा रहा है। कुछ चीनी मिलें जिनकी आर्थिक स्थिति बेहतर नहीं है, उनको गन्ना किसानों के भुगतान के लिए सरकार ने साफ्ट लोन की सुविधा मुहैया कराई है। ताकी गन्ना किसानों के भुगतान में किसी तरह की परेशानी ना हो। यह भी सुनिश्चित कराया गया है कि साफ्ट लोन का पैसा चीनी मिलों के खाते में ना जाकर सीधे गन्ना किसानों के खाते में भेजा जाएगा। शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि योगी सरकार अब तक गन्ना किसानों को 27 हजार 486 करोड़ का भुगतान कर चुकी है। इतना ही नहीं अखिलेश यादव सरकार के दौरान गन्ना किसानों का बकाया रहा 44 सौ 43 करोड़ रूपए का भी योगी सरकार ने भुगतान करा दिया है। श्री त्रिपाठी ने कहा कि पिछली मायावती और अखिलेश की सरकारों के दौरान चीनी मिलें बर्बाद कर औने पौने दामों में बेंच दी गईं। शुगर का कटोरा कहा जाने वाला पूर्वांचल चीनी उत्पादन के क्षेत्र में पूरी तरह तबाह हो गया। योगी आदित्यनाथ की सरकार ने शपथ लेने के फौरन बाद से ही गन्ना किसानों की बेहतरी के कदम उठाने शुरू कर दिए। गन्ना किसानों ने गन्ने की पैदावार कम कर दी। इसी का नतीजा है कि महज 18 महीनों में योगी सरकार ने सालों से बंद पड़ी पिपराइच चीनी मिल, मुंडेरवा चीनी मिल, बुलंदशहर चीनी मिल, सहारनपुर चीनी मिल, चंदौसी चीनी मिल दुबारा से शुरू करा दी है। इसका सीधा लाभ गन्ना किसानों को मिलने लगा है। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश
image