Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 02:34 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

आंखों से अंगारे फेंकने के साथ ही दशानन के मुंह से गिरेंगे फूल

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 18 2018 9:00PM
आंखों से अंगारे फेंकने के साथ ही दशानन के मुंह से गिरेंगे फूल
- 90 फिट के लंकश्वेर होंगे आकर्षण का केन्द्र कानपुर, 18 अक्टूबर(हि.स.)। परेड रामलीला ग्राउंड मैं शहर की सबसे पुरानी और पारंपरिक रामलीला पर दशहरे के मेले का भव्य आयोजन किया जाता है। रावण दहन के नजारे को देखने के लिए आस पास के जिले के भी लोग आते हैं। हर साल की तरह इस बार भी परेड का दशानन खास होगा। वहीं अंतिम दिन रावण बाजार में रावण के पुतलों की खूब बिक्री हुई। जिसमें छोटे-छोटे रावण के पुतले आकर्षण का केन्द्र बने रहे। शुक्रवार रात्रि को रावण दहन होना है। इस बार के रावण दहन के दौरान लोगों में कुछ अलग की रोमांच दिखायी देगा क्योंकि आंखों से अंगारे फेंकने के साथ ही दशानन के मुंह से फूल भी गिरेंगे। रावण के पुतले की लम्बाई हर साल की तरह बढ़ती जाती है। इस बार रावण के पुतले की लम्बाई 90 फिट तक होगी। जबकि मेघनाथ और कुंभकरण के पुतले की लम्बाई 70 फिट तक होगी। बुलेट पर बैठ जायेगा लंकेश्वर का पुतला दशहरा यानी बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक त्योहार जिसके लिए जहां पर बड़े बड़े आयोजन स्थल पर रावण के पुतले के दहन करने की तैयारी हो रही है तो शहर का एक बाजार ऐसा भी है जहां पर रावण के डेढ़ फीट से लेकर 30 फुट के पुतलों के बाजार पूरी तरह से गुलजार हो चुका है। इस बाजार में आर्डर देने पर भी पुतले तैयार किये जा रहे है। दशहरे को लेकर बच्चे ज्यादा उत्साहित है। धूमधाम से रावण दहन की तैयारियों में लोग जुटे है रावण और कुंभकरण सहित मेघनाथ के पुतले बन कर तैयार में खड़े है। शहर के जीटी रोड किनारे कुछ साल पहले चार पांच परिवारों ने मिलकर रावण के पुतले तैयार करने की शुरुवात की थी,जो देखते देखते बढ़ता ही जा रहा है। हर साल राणव के पुतले की जो मांग बढ़ती जा रही है। एक समय चार से पाँच परिवार के द्वारा शुरु किये गये कारोबार में वर्तमान समय में दो दर्जन से अधिक परिवार के लोग लगे हुए है। मंहगाई का असर भी इस बार रावण के पुतले पर साफ दिखायी दे रहा है। जो पुतला पिछले साल 200 में मिल जाता था उसकी कीमत इस बार 300 रुपये के आस पास है। कुछ कारीगरों ने लंकेश्वर को नया स्वरुप यानी हाईटेक करने की भी कोशिश की है। विकलांग कारीगर ने अपने हुनर को दिखात हुए बुलेट राजा रावण को तैयार किया है। जिसकी मार्केट में बहुत डिमांड है साथ ही कई पुतले अलग अलग स्वरुप में भी देखे जा सकते है। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/राजेश
image