Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, नवम्बर 21, 2018 | समय 12:59 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

गहलोत के दौरों से बदली सियासत, नये चेहरों पर जाति कार्ड खेलने की कवायद

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 9 2018 6:52PM
गहलोत के दौरों से बदली सियासत, नये चेहरों पर जाति कार्ड खेलने की कवायद
जोधपुर, 09 नवम्बर (हि.स.)। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव अशोक गहलोत के तीन दिवसीय जोधपुर प्रवास के दौरान कई दावेदारों के नाम सुर्खियों में आए हैं जिनपर अंतिम सहमति बनने की भी संभावना जताई जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत का नाम प्रमुख रूप से सुर्खियों में आया है, यदि पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चुनाव नही लडते है तो उनके पुत्र को यहां से चुनाव लडाया जा सकता है। पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत ने जोधपुर के कायलाना स्थित होटल लेकव्यू में दावेदारों के साथ मंथन किया, उसके बाद से लगातार कुछ दावेदार सुर्खियों में है। शहर विधानसभा क्षेत्र से सुयोग काबरा व सुपारस भंडारी पर सहमति के आसार बनते दिखाई दे रहे है। सुपारस भंडारी पिछला विधानसभा चुनाव हार चुके है। वही सुयोग काबरा अपने पिता की सेवा के आधार पर टिकट मांग रहे है। शहर विधानसभा क्षेत्र से गणपत सिंह चौहान का नाम भी सुर्खियों में है। रावणा राजपूत समाज को प्रतिनिधित्व देने का वादा हो चुका है। खुद राहुल गांधी और सचिन पायलट वादा कर चुके है। शहर क्षेत्र में 38 हजार रावणा राजपूत समाज के वोट है। ऐसे में ऐन वक्त पर गणपतसिंह चौहान के नाम पर भी सहमति हो सकती है। कुडी सरपंच देवी सिंह सिसोदिया भी यहां से ही दावेदारी कर रहे है। सरदारपुरा विधानसभा क्षेत्र की बात करें तो यहां से कुंती देवडा का नाम सुर्खियों में है। गहलोत द्वारा चुनाव नहीं लडने की स्थिति में यहां से प्रबल दावेदार है। गहलोत के लिए कुंती देवडा के पिता मानसिंह देवडा ने यह सीट खाली की थी। कांग्रेस नेता राजेन्द्र सोलंकी व सुनिल परिहार भी सशक्त दावेदार है। सरदारपुरा विधानसभा से वैभव गहलोत का नाम भी सुर्खियों में है। हर बार वैभव गहलोत का नाम चर्चाओं में आता है मगर बाद में चर्चाओं पर विराम लग जाता है। अगर गहलोत चुनाव नही लडते है तो वैभव गहलोत के नाम पर सहमति बन सकती है क्योकि वैभव गहलोत पूर्व सीएम अशोक गहलोत के पुत्र है। वही सूरसागर विधानसभा क्षेत्र से लियाकत अली रंगरेज, इकबाल खान व इंसाफ खान का नाम भी सुर्खियो में है। इन तीनों में से किसी एक मुस्लिम नेता पर मुहर लग सकती है। सूरसागर क्षेत्र से अब्दुल गनी फौजदार,शहाबुद्दीन व अब्दुल जब्बार भी दावेदार है। सूरसागर क्षेत्र से आनंद पुरोहत, रामेश्वर दाधीच व जस्टिस गोपालकृष्ण व्यास के नाम सुर्खियों में है। सूरसागर से कांग्रेस ब्राह्मण कार्ड खेल सकती है। सूरसागर से सुरेश व्यास की भी प्रबल दावेदारी है। कांग्रेस नेता राजेश रामदेव की भी सूरसागर से दावेदारी सामने आई है। हिन्दुस्थान समाचार/ सतीश/संदीप
image