Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, नवम्बर 21, 2018 | समय 13:18 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पिछली बार की धोखाधड़ी से सन्नाटा है इस बार बीकानेर का 'चुनावी' सट्‌टा बाजार में

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 6 2018 8:20PM
पिछली बार की धोखाधड़ी से सन्नाटा है इस बार बीकानेर का 'चुनावी' सट्‌टा बाजार में
बीकानेर, 06 नवम्बर (हि.स.)। क्रिकेट और चुनाव के सट्‌टे के लिए मशहूर बीकानेर में इस बार लोग यूपी चुनाव परिणाम में मिले धोखे से घबराये हुए हैं। यही वजह है कि सटोरियों ने इस बार खुद ने तो बुक नहीं खोली है लेकिन वे दूसरों के नाम से बुक चला रहे हैं। चुनाव नजदीक है और सट्‌टा बाजार की हालत खस्ता है। यूपी चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की जबरदस्त जीत की संभावनाओं को सटोरिये भी नहीं भांप पाए थे और भाजपा की 300 सीटों पर जो भाव मिला उस पर पैसा जमकर खाया। भाजपा की 300 से अधिक सीटें आने पर सभी बड़े बुकियों के होश उड़ गए थे। कई दिनों तक तो ये बड़े बुकी बाजार से गायब ही रहे। कोई बीकानेर छोड़कर बाहर चला गया तो कोई भूमिगत होकर बैठ गया था। चुनाव परिणाम ऐसा आया कि सटोरियों को बाजार में 300 करोड़ रुपये चुकाने थे लेकिन उन्होंने सौदों को ईवीएम मशीनों की खराबी की आड़ में उलझा दिया। मुंबई के बड़े गिरोह चलाने वाले बुकी जयपुर में अपने सौदों का भुगतान लेने आए थे लेकिन किसी ने पुलिस को जानबूझकर सूचना कर दी जिससे एक होटल में एकत्र हुए सटोरियों में भगदड़ मच गई। इनमें बीकानेर के सटोरिये भी बैठे थे। आखिर सटोरियों ने 60 प्रतिशत ही भुगतान लोगों को किया, बाकी पैसे बड़े सटोरिये डकार गए। चूंकि चुनाव के सौदे कागजों में नहीं होकर दो नंबर में होते हैं इसलिए कोई पुलिस में भी शिकायत नहीं कर सकता था। इससे छोटे सटोरिये और छोटे बुकी रोते रह गये। बीकानेर में मुख्य रूप से सटोरियों ने कुछ दिन मुंह छिपाने के बाद फिर से बाजार में सट्‌टा चलाना शुरू कर दिया। जानकारी में रहे कि यूपी चुनाव के बाद आम चुनाव ऐसा मौका आया है जब हर बुकी जमकर पैसा कमाता है लेकिन इस बार बड़े बुकी डरे हुए हैं। उन्हें डर है कि जैसा उन्होंने यूपी चुनाव में लोगों के साथ धोखा किया वैसा ही इस चुनाव में लोग उनके साथ कर सकते है। यही वजह है कि अभी तक बीकानेर में सट्‌टे की बड़ी बुक नहीं खुली है। छोटे छोटे सौदे ही बीकानेर में हो रहे हैं, बड़े सौदे सीकर और फलौदी में उतारे जा रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/ ईश्वर
image