Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, नवम्बर 21, 2018 | समय 13:54 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत के मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री बनने के योग

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 1 2018 7:53PM
पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत के मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री बनने के योग
जोधपुर, 01 नवम्‍बर (हि.स.)। राजस्थान में 7 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा-कांग्रेस किसी भी पल प्रत्याशी की सूची जारी कर सकती है इसी बीच ज्योतिषीय आधार की बात करें तो जोधपुर के शनिधाम महंत पंडित हेमन्त बोहरा ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की जन्म कुंडली देखकर यह कहा है कि गहलोत के उच्च राजयोग होने के कारण मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री बन सकते हैं। पूर्व सीएम अशोक गहलोत बन सकते हैं गठबंधन सरकार के प्रधानमंत्री... वर्तमान में चल रहा है प्रबल राजयोग... शनिदेव के प्रबल गजकेसरी योग से गुरु का केंद्र में होने से छठे स्थान पर राहु तीसरे स्थान पर केतु होना चाहिए,जो अद्भुत योग बनता है गुरु और चंद्रमा की युति से सरकार के मुखिया बनने का योग नवंबर 2019 तक है यह योग अशोक गहलोत का है। ये हम नही कह रहे यह कहना है जोधपुर के शास्त्री नगर स्थित शनि धाम के महंत पंडित हेमंत बोहरा का, जिन्होंने वर्ष 1997 में भी गहलोत के मुख्यमंत्री बनने को लेकर भविष्यवाणी की थी और वह भविष्यवाणी भी सही साबित हुई थी। पंडित हेमंत बोहरा की मानें तो लग्न मिथुन उत्तराभाद्रपद नक्षत्र मीन राशि 1998 से 2019 तक अशोक गहलोत के राज योग प्रबल हैं राजनीति के हर क्षेत्र में माहिर तीसरा केतु होने से वाक् चातुर्य से काम बनाने की क्षमता, शत्रुओं का नाश करने की कला, नवे राहु गुरु केंद्र में होने से सभी दोष भी माफ माने जाते हैं। बोहरा ने बताया कि नवंबर 2019 तक समय श्रेष्ठ रहेगा इनका बुद्ध ग्यारहवें भाव में प्रभावशाली होकर प्रशासनिक पावर प्रदान कर्ता है कुल मिलाकर अशोक गहलोत के राज योग प्रबल हैं अगर नेतृत्व इन्हें राजस्थान की बागडोर सम्भालवाने की सोचता है तो वे पहले सीएम बनेंगे मगर बाद में पीएम बनने की बराबर आसार हैं। उन्होंने बताया कि राहुल गांधी के राजयोग नहीं है गठबंधन सरकार अगर आती है तो सर्वमान्य प्रधानमंत्री उम्मीदवार अशोक गहलोत हो सकते हैं और उनकी जीत प्रबल होगी। गहलोत की कुंडली प्रबल जीत के आसार बनाती है बृहस्पति की दशा शनि देव की दशा गहलोत के लिए श्रेष्ठ राज कारक है कुल मिलाकर नेतृत्व पर निर्भर है कि वह अपने तुरूप के पत्ते को इस्तेमाल करते हैं या नहीं बाकी अशोक गहलोत का भविष्य उज्जवल है।गुरु और चंद्रमा दसवें भाव में गजकेसरी योग अद्भुत योग सरकार का मुखिया बनने का योग बनता है लग्नेश बुध ग्यारहवें भाव में सूर्य के साथ बुधादित्य योग का निर्माण करता है जातक की वाणी प्रभावशाली और कई विद्याओं का जानकार होता है गुरु केंद्र में दसवें भाव में शुभ योग है केंद्र में गुरु कुंडली के सभी दोष दूर करते हैं शुक्र बारहवें भाव में मीन राशि में स्थित है खूब प्रसिद्धि प्राप्त होगी गुरु केंद्र में स्वयं की राशि में अच्छा योग बनाता है प्रधानमंत्री पद प्राप्त कर सकते हैं राहु नौवें भाव में अपनी चतुर प्रति लोगों को प्रभावित करते हैं कुल मिलाकर सर्वश्रेष्ठ योग चल रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ सतीश/ ईश्वर
image