Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 11:05 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

अजमेर : नई महिला दावेदारों को तरसे भाजपा नेता

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 21 2018 6:35PM
अजमेर : नई महिला दावेदारों को तरसे भाजपा नेता

संंतोष गुप्ता

अजमेर, 21 अक्टूबर (हि.स.)। जयपुर में शनिवार को शुरू हुई अजमेर जिले की आठ सीटों के लिए भारतीय जनता पार्टी की रायशुमारी में मौजूदा विधायकों की पदाधिकारियों पर चौकीदारी काम नहीं आई। लोग विधायकों द्वारा उपलब्ध 'बस' में तो जयपुर पहुंचे पर उनके 'वश' में नहीं पहुंचे। जयपुर पहुंचते ही रायशुमारी से दावेदारों को तो बाहर का रास्ता दिखा दिया गया और पदाधिकारियों को रायशुमारी के लिए बैठा लिया गया। जो बाते निकल कर सामने आई हैं उनमें प्रमुख रही कि भाजपा के राष्ट्रीय स्तर के दिग्गज नेता अजमेर से किसी नए महिला चेहरे को देखना चाहते थे। वह उम्मीद उनकी पूरी नहीं हो सकी। मौजूदा विधायक एवं महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री अनिता भदेल, पूर्व जिला प्रमुख सरिता गैना, पूर्व सभापति किशनगढ़ गुणमाला पाटनी, अजमेर जिला प्रमुख वंदना नोगिया के अलावा कोई भी महिला दावेदार उभर कर सामने नहीं आ सकी।

दूसरी अहम बात जो निकल कर सामने आ रही है वह यह कि रायशुमारी के लिए पहुंचे ज्यादातर पदाधिकारियों ने अजमेर उत्तर, पुष्कर, केकड़ी और ब्यावर से मौजूदा विधायकों के लिए नकारात्मक राय प्रकट की। मसूदा सीट के लिए सबसे कम सिर्फ एक ही दावेदार सामने आया। ब्यावर सीट पर पुलिस अधिकारी मानवेन्द्रसिंह ने दावेदारी दर्शाई। जानकारी के अनुसार मौजूदा विधायक एवं शिक्षा एवं पंचायती राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी जो कभी अपनी लाल बत्ती की गाड़ी में कार्यकर्ता एवं पदाधिकारियों को बैठाने में बड़ा ध्यान रखा करते थे वे स्वयं पदाधिकारियों को बस में अपनी चौकीदारी में बैठा कर जयपुर पहुंचे। यह बात दीगर है कि रायशुमारी शुरू होने के साथ ही निष्पक्षता बनाए रखते हुए टिकट के दावेदारों को ही कक्ष से बाहर निकाल दिया गया।

रायशुमारी में अजमेर शहर की दो सीटों के लिए करीब डेढ़ सौ तथा देहात की 6 सीटों के लिए तीन सौ चयनित कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। अजमेर उत्तर से दावेदारों की सूची में शामिल स्वयं वासुदेव देवनानी, एडीए चेयरमैन शिवशंकर हेड़ा,पूर्व यूआईटी चेयरमैन धर्मेश जैन, नगर निगम पार्षद एवं पूर्व चेयरमैन सुरेन्द्रसिंह शेखावत, राजस्थान धरोहर प्रौन्नति प्राधिकरण के सदस्य कवंल प्रकाश किशनानी, भाजपा के संगठन तुलसी सोनी, राष्ट्रीय युवा राजनीति में दखल रखने वाले एवं पार्षद एडवोकेट नीरज जैन, पार्षद जे के शर्मा शामिल थे। बताया जा रहा है कि रायशुमारी करने गए अधिकांश पदाधिकारियों ने मौजूदा विधायक एवं मंत्री के प्रति नोटा का इस्तेमाल किया। मांगे गए सुझाव में यह भी लिखा कि यदि टिकट दिया तो अन्य सीटों से भी भाजपा हाथ धो बैठेगी।

अजमेर दक्षिण की विधायक एवं महिला राज्यमंत्री श्रीमती अनिता भदेल के समर्थक कारों में पहुंचे। दक्षिण क्षेत्र से दावेदारी के लिए स्वयं अनिता भदेल, विधि प्रकोष्ट का अध्यक्ष एडवोकेट मनोज डीडवानियां, व हीरा लाल जीनगर, पूर्व विधायक बाबूलाल सिंगारियां, जिला प्रमुख वंदना नोगिया, पूर्व मंत्री के पुत्र विकास सोनगरा ने अपनी उपस्थिति व दावेदारी दर्ज कराई। मसूदा की भाजपा विधायक श्रीमती सुशील कंवर पलाड़ा के पति भंवर सिंह पलाड़ा तो अपने क्षेत्र के पात्र कार्यकर्ताओं को पहले ही जयपुर ले गए। जोरदार बात रही कि इस क्षेत्र से कोई मजबूत दावेदार ही सामने नहीं आया। पूर्व दावेदार भाजपा नेता नवीन शर्मा ने अकेले ही मजबूत दावेदारी प्रस्तुत की।

केकड़ी क्षेत्र से समाजसेवी और दिव्यांग कृष्णानंद तिवारी का नाम उभरा, यूं तो इस क्षेत्र से नगर पालिका अध्यक्ष अनिल मित्तल, पार्षद राजेन्द्र विनायक व ज्ञानेश व्यास ने भी दावेदारी दिखाई है। स्वयं मौजूदा विधायक एवं संसदीय सचिव शुत्रध्न गौतम भी समर्थकों को लेकर दावेदारी करने पहुंचे।

रावत समाज में उभरे कई सरदार—

रायशुमारी में जो नई बात सामने आई उसमें भाजपा से रावत समाज के कई सरदार प्रकट हुए। इन्हें देखकर भाजपा की ब्यावर व पुष्कर सीट पर आला पदाधिकारियों को खतरा साफ दिखाई देने लगा है। ब्यावर क्षेत्र से विधायक शंकर सिंह रावत की भारी खिलाफत होने की जानकारी मिली है। रायशुमारी में तिलक रावत, मानवेंद्र सिंह पुलिस अधिकारी, पूर्व विधायक देवीशंकर भूतड़ा, व पवनजैन के नाम उभरे हैं। वही पुष्कर विधानसभा सीट से मौजूदा विधायक एवं संसदीय सचिव सुरेश रावत को भी पदाधिकारियों ने कथित तौर पर नकार दिया। इस क्षेत्र से प्रधान अशोक रावत, जिला परिषद सदस्य राजेन्द्र रावत, सुरेश रावत, तथा महंत सेवानंदगिरी के नाम उभरे हैं।
उपचुनाव में भाजपा के हाथ से छिनी अजमेर नसीराबाद सीट से पूर्व प्रत्याशी रामस्वरूप लांबा ने मजबूत दावेदारी दिखाई है। इस सीट से पूर्व जिलाप्रमुख पुखराज पहाड़िया, भाजपा के देहात अध्यक्ष बी पी सारस्वत ने भी दावेदारी पेश की। गुर्जर समुदाय के प्रतिनिधियों ने जहां गोपाल गुर्जर, रोहित गुर्जर, योगेश सोनी आदि के नाम लिखे वहीं पूर्व जिला प्रमुख एवं उपचुनाव भाजपा प्रत्याशी सरिता गैना, युवा नेता ओम प्रकाश भडाना, सुभाष काबरा, शिवराज चौधरी आदि के नाम भी अंकित किए गए हैं। किशनगढ़ सीट के लिए मार्बल उद्योग से जुड़े सुरेश टाक, विकास चौधरी, पूर्व सभापति गुणमाला पाटनी ने दावेदारी पेश की है। इनमें गंभीर दावेदारी सुरेश टाक की मानी जा रही है। क्षेत्र से वर्तमान में जाट समुदाय के भागीरथ चौधरी विधायक हैं। वह तीसरी बार चुनाव लड़ने को तैयार हैं।

संगठन और सत्ता में नहीं है तालमेल—
रायशुमारी से साफ हो गया कि भाजपा का संगठन और सत्ता में तालमेल नहीं है। जो जिला अध्यक्ष चुनाव लड़ने के इच्छुक हैं उन्हें भी पर्ची में नाम लिखवाने के लिए विधायकों से मिन्नते करनी पड़ रही थीं। अजमेर जिले में सात विधायक भाजपा के हैं। इन सभी विधायकों को यह प्रयास रहा की पर्ची में पहले नम्बर पर उन्हीं का नाम लिखा जाए, दूसरे और तीसरे नम्बर पर ऐसे भाजपा नेता का नाम लिखा जाए जो चुनाव लड़ने के प्रति गंभीर नहीं है। यानि गंभीरता के साथ दावेदारी करने वाले नेता का नाम न लिखा जाए।

 

image