Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 08:15 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

प्रतापगढ़ : नंदलाल की सियासी विरासत को संभालेंगे हेमंत मीणा!

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 1 2018 1:01PM
प्रतापगढ़ : नंदलाल की सियासी विरासत को संभालेंगे हेमंत मीणा!

संजय जैन

प्रतापगढ़। जिले के प्रतापगढ़ विधानसभा सीट से विधायक और प्रदेश के जनजाति विकास मंत्री नंदलाल मीणा ने अब अपनी राजनीतिक विरासत अपने पुत्र को सौंपने की तैयारी में है। गुरुवार को मंत्री मीणा ने अपने अपने पुत्र हेमंत मीणा को आगामी विधानसभा चुनाव लड़ाने की बात करते हुए कहा कि अभी उनका स्वास्थ्य अनुकूल नहीं है। उनका उपचार चल रहा है। ऐसे में वह चुनाव लड़ने की स्थिति में नहीं हैं और अपने पुत्र के लिए यह सीट छोड़ रहे हैं।

सात बार विधायक और एक बार सांसद रह चुके मंत्री मीणा की उम्र अब 73 साल हो चुकी है। बुजुर्ग मीणा अब अपनी सियासत को विरासत के रूप में हेमंत मीणा को सौंप रहे हैं। हेमंत मीणा वर्तमान में जिला क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष और भाजपा में जिला महामंत्री के साथ जिला परिषद सदस्य भी हैं। 39 वर्षीय हेमंत मीणा वैसे तो राजनीति में 17 साल पहले ही आ गए थे जब उन्होंने प्रतापगढ़ पंचायत समिति सदस्य का चुनाव लड़ा था। तब पहले ही चुनाव में मुंह की खाने के बाद उनका राजनीतिक भविष्य अधर में लग रहा था। लेकिन अगली बार हुए पंचायत समिति सदस्य के चुनाव में उन्होंने न सिर्फ जीत ही हासिल की वरन पंचायत समिति के प्रधान पद पर भी काबिज हो गए।

इस दौरान मंत्री मीणा पर वंशवाद को बढ़ावा देने के कई बार आरोप लगे लेकिन बेदाग छवि और अक्खड़ स्वभाव के नंदलाल मीणा ने कभी प्रदेश नेतृत्व और आलाकमान के निर्देशों की परवाह नहीं की। उन्होंने अपनी पत्नी को जिला प्रमुख बनवाया, बेटे को प्रधान बनवाया, पुत्रवधू को जिला प्रमुख बनवाया और अब अपने बेटे को विधानसभा चुनाव लड़ाना चाहते हैं| हेमंत पिछले 17 सालों से राजनीति में सक्रिय हैं। उनके नेतृत्व में प्रतापगढ़ भाजपा ने पंचायती राज चुनाव, नगर निकाय चुनाव ,छात्र संघ चुनाव और कृषि उपज मंडी समिति चुनाव में फतह हासिल की। उधर, कभी भाजपा में ही उनके शागिर्द रहे पूर्व उप जिला प्रमुख रामलाल मीणा इस बार कांग्रेस की ओर से प्रबल दावेदार हैं। वह गुरु के पद चिह्नों पर चलते हुए सियासत के मैदान में उतर चुके हैं। माना जा रहा है कि आगामी विधानसभा चुनाव में गुरु पुत्र और चेला दोनों आमने-सामने होंगे। हालांकि यह तभी फलीभूत होगा जब भाजपा नंदलाल मीणा के सुझाव से सहमत होगी|                       

 

image