Hindusthan Samachar
Banner 2 शनिवार, नवम्बर 17, 2018 | समय 14:37 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

श्रीपद नाइक ने नरेला में राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान की आधारशिला रखी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Oct 16 2018 5:12PM
श्रीपद नाइक ने नरेला में राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान की आधारशिला रखी
सुशील
नई दिल्ली, 16 अक्टूबर (हि.स.)। केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री श्रीपद येस्सो नाइक ने मंगलवार को उत्तरी दिल्ली के नरेला में राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान की आधारशिला रखी। कुल 302 करोड़ रुपए की लागत से तैयार होने वाली इस परियोजना में 100 बिस्तरों के अस्पताल के अलावा 7 विषयों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम की भी सुविधा होगी। यह एक राष्ट्रीय स्तर का संस्था‍न होगा और इसकी स्थापना कोलकाता के राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान के विस्तार के रूप में की जाएगी।
 
केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि होम्योपैथी की स्वीकार्यता और लोकप्रियता भारत और विश्वभर में बढ़ती जा रही है। उनका मंत्रालय देश में आयुष चिकित्सा प्रणालियों के विकास और प्रोत्साहन के लिए विभिन्न उपाय कर रहा है।
 
आयुष संस्थानों में छात्रों के दाखिले में एकरूपता लाने और आयुष के अंतर्गत प्रतिभाशाली विद्यार्थियों का समावेश सुनिश्चित करने के लिए वर्ष 2016-17 से मंत्रालय ने आयुष स्नांतक पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए केन्द्रीय माध्यामिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा संचालित राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा की योग्यता सूची का इस्तेमाल करने का निर्णय किया है। इसके अलावा स्नातकोत्तपर पाठ्यक्रमों के लिए राष्ट्रीय स्तर की संयुक्त प्रवेश परीक्षा, अर्थात् अखिल भारतीय स्नातकोत्त‍र प्रवेश परीक्षा (एआईएपीजीईटी) आयोजित की गई।
 
स्थानीय भाजपा सांसद डॉ. उदित राज ने कहा कि राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान उत्तर-पश्चिम दिल्ली की जनता के लिए एक सौगात है, जो उनके स्वास्थ्य की देखभाल में मददगार साबित होगा। इस मौके पर उत्तरी-दिल्ली नगर निगम के महापौर आदेश गुप्ता भी मौजूद थे।
 
नरेला स्थित राष्ट्रीय होम्योपैथी संस्थान की स्थापना दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) से प्राप्त 10 एकड़ भूमि पर की जा रही है। इसके परिसर का कुल क्षेत्रफल 50 हजार वर्ग मीटर होगा। संस्थान में 100 बिस्तारों के अस्पताल और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं अनुसंधान के लिए उत्कृष्ट केन्द्र स्थापित करने का प्रस्ताव है। उन्होंने कहा कि होम्योपैथी में उच्च गुणवत्तापूर्ण अनुसंधान और उपचार का अंतराल दूर करने के लिए इस संस्थान में केवल स्नातकोत्तर और पीएचडी स्तर के शिक्षण की व्यवस्था होगी। इस परियोजना पर कुल 302 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है।
 
संस्थान 7 विषयों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम संचालित करेगा। प्रत्येक शैक्षिक वर्ष में हर विभाग में 7 स्नातकोत्तर विद्यार्थियों को दाखिला दिया जाएगा। पीएचडी पाठ्यक्रम में हर वर्ष 10 विद्यार्थी दाखिल होंगे। अस्पताल के ओपीडी विभाग के अंतर्गत सामान्य और विशेषज्ञतापूर्ण उपचार की व्यवस्था होगी।
image